चर धम यत्र कैसे करें

  • नई दिल्ली भारत में सूखे की वजह यूरोप का बढ़ता प्रदूषण स्तर है। इसकी वजह से देश में करीब 13 करोड़ से अधिक लोग प्रभावित हुए। यह खुलासा एक नए रिसर्च में हुआ है। द इंडिपेंडेंट की खबर के मुताबिक लंदन के इंपीरियल कॉलेज के शोधकर्ताओं ने बताया कि सन 2,000 में भारत में बारिश पर सल्फर डाईऑक्साइड के उत्सर्जन का कितना अधिक प्रभाव पड़ा। उत्तरी गोलार्द्ध के प्रमुख इंडस्ट्रियल क्षेत्रों से होने वाले उत्सर्जन की वजह से भारत के उत्तर-पश्चिमी हिस्से में 40 फीसदी तक की गिरावट दर्ज की गई। अकेले यूरोप के ही उत्सर्जन से यहां के दक्षिण पश्चिमी और पश्चिमोत्तर क्षेत्र में 10 फीसदी की गिरावट आई। कोयले से संचालित पॉवर प्लांट से बनने वाले सल्फर डाईऑक्साइड से कई हानिकारक प्रभाव होते हैं। इसकी वजह से ऐसिड रेन, दिल और फेफड़े की बीमारी के साथ ही पेड़-पौधों की वृद्धि पर भी असर पड़ता है। लेकिन सल्फेट ऐरोसॉल, वातावरण पर कूलिंग इफेक्ट डालता है, क्योंकि यह सूरज की किरणों को वापस स्पेस में भेज देता है। हालांकि उत्तरी गोलार्द्ध से होने वाला उत्सर्जन दक्षिण में गर्मी की दर को बदल सकता है। इसकी वजह से ट्रॉपिकल रेन बैंड खराब परिणामों के साथ बदल जाता है। आईसीएल ग्रांथम इंस्टिट्यूट के एपोस्तोलोस वुलगाराकिस ने बताया, 'शोध से पता चला कि दुनिया के एक हिस्से में होने वाले उत्सर्जन से दूसरे हिस्से में कैसे प्रभाव डाल सकता है। पास में होने की वजह से पूर्वी एशिया अधिक असर डाल रहा है, लेकिन यूरोप और यूएस का भी असर अधिक है।' 1990 से 2011 के दौरान यूरोप में सल्फर डाईऑक्साइड के उत्सर्जन में 74 फीसदी की गिरावट के बावजूद दुनिया के गर्म होने की वजह से भारत में सूखे की स्थिति बरकरार रही।
  • ट्रेन से पानी लेने के लिए उतरी, प्लेटफॉर्म पर

    ओडिशाकीरहनेवाली27सालकीएकमहिलाबेहदबुरीहालतमेंपटनामेंमिली।कपड़ेभीउसकेशरीरपरसहीतरीकेसेनहींथे।उसकीहालतदेखकरअंदाजालगायाजारहाथा […]

    Continue reading

  • Twitter War: डॉ हर्षवर्धन ने पूछा- दिल्ली के

    नईदिल्ली:दिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालऔरकेंद्रीयमंत्रीडॉहर्षवर्धनकेबीचट्विटरवॉरछिड़गयाहै.दोनोंनेताओंनेएकदूसरेपरजमकरआ […]

    Continue reading

  • इंसान के भेष में घूमते दरिंदों से कैसे महफूज़

    लिखतेवक़्तहाथकांपरहेहैं,दिलमेंअजीबसीबेचैनीहै.डर,गुस्सा,नाराज़गी,फिक्र,असुरक्षा,इतनेसारेइमोशनएकसाथ.येइसलिएक्योंकिअबदिमागस […]

    Continue reading

1