सेक्स वडय मुसलमन क सेक्स

  • दाउदनगर (औरंगाबाद), उपेंद्र कश्यप। अभी मौसम कृषि कार्य का है। खेतों में रोपनी हो रही है। कई कृषि परंपराएं अब समाप्त प्राय हैं। अब खेतों में जब महिलाएं धान रोकने के लिए उतरती हैं तो कौनी किसनवा के हइन पहिरोपना... और सातों बहिनी गावअ हई गीत के डुली-डुली नाज् जैसे पारंपरिक गीत अब सुनने को नहीं मिलते हैं। लुकमा कसार कृषि मजदूरों को देने जैसी परंपराएं अब विलुप्त हो गई हैं। किसान सुरेंद्र ङ्क्षसह यादव बताते हैं कि बिचड़ा तैयार होने के बाद मजदूर आरी गोहट करते हैं। पचाठ होता है, यानी खेत की पूजा की जाती है। धान, चावल, अक्षत, रोली, ङ्क्षसदूर का इस्तेमाल होता है। मुख्य रोपनी जो प्राय: स्थाई कृषि मजदूर होते हैं वह पति पत्नी जाकर खेत की पूजा करते हैं। रोपनी किसान के घर पहुंचती है। रोपनी शुरू करने से पहले और उसे खोइन्छा मिलता है। चावल, तेल और विवाहित के मांग में ङ्क्षसदूर दिया जाता है। यही चावल कृषि मजदूर रोपनी से पहले खेतों में छिड़कते हैं। ईश्वर से यह अपेक्षा करते हैं कि फसल लहलहाए। कृषि मजदूर और किसान खुश रहे। कबरिया गोरिया बाबा, शंकर भगवान, देवी माई, इंद्र भगवान, सूर्य भगवान का जयकारा लगाते हैं। रोपणहार गीत गाकर कार्य करती हैं।
  • चंडीगढ़ में बड़े सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, बस

    जेएनएन,चंडीगढ़।चंडीगढ़पुलिसनेरविवारकोशहरमेंएकबड़ेसेक्सरैकेटकाभंडाफोड़कियाहै।पुलिसनेसेक्टर-43स्थितबसस्टैंडसेकुलपांचलोगोंक […]

    Continue reading

  • रांची के इन होटलों में चल रहा था सेक्स रैकेट,

    रांची.रांचीकेचुटियाथानाक्षेत्रमेंचलरहेसेक्सरैकेटकाखुलासाहुआहै.दरअसल पुलिसद्वारारांचीकेस्टेशनरोडस्थितकईहोटलोंमेंसिटीडीएसप […]

    Continue reading

1