काका

  • काका बांके, गजल में भी ठहाके!

    कमलवाष्र्णेय,हाथरस:भलागजलसुनकरभीकोईठहाकेलगासकताहै?जवाबनहीहोगा,परहास्यसम्राटकाकाहाथरसीनेऐसाकरदिखाया।हास्यकेचौकेऔरछक्केलिख […]

    Continue reading

1