श्रेय घषल हमे तुमसे प्यर कतन गत के बल

1