विश्व मिट्टी दिवस पर कार्यक्रम

बांका।विश्वमिट्टीदिवसपरगुरुवारकोप्रोन्नतमध्यविद्यालयखड़िहाराउर्दू(बालक)मेंचेतनासत्रकाआयोजनकियागया।जिसमेंबच्चोंकोस्वास्थ्यएवंजीवनकेप्रतिमिट्टीकेयोगदानकेप्रतिजागरूककियागया।इसमें150बच्चेशामिलहुए।

प्रधानाध्यापकउमाकांतकुमारनेभविष्यमेंस्वस्थएवंबेहतरजीवनकेलिएमिट्टीसंरक्षणकेलिएकिसानोंवआमजनोंकोजागरूककरनेपरबलदिया।उन्होंनेकहाकिरासायनिकखादकेअधिकइस्तेमालसेमिट्टीकेजैविकगुणोंमेंकमीआनेसेउपजमेंगिरावटआरहीहै।खेतोंमेंपुआलजलानेसेमिट्टीकीजैविकक्षमतामेंकमीकेसाथसाथकेंचुआजैसेसूक्ष्मजीवभीमररहेहैं।विश्वकीसंपूर्णमिट्टीका33प्रतिशतपहलेसेहीबंजरहोचुकीहै।मिट्टीकेसंरक्षणकेलिएपौधारोपण,वनोंकासंरक्षण,बाढ़नियंत्रण,अत्यधिकचराईपररोक,सीढ़ीदारखेतबनाना,आधुनिकयंत्रोंसेखेतकीजुताई,रासायनिकखादोंकाकमप्रयोग,गोबर,कंपोस्टएवंजैविकखादोंकेप्रयोगकोबढ़ावादेनेपरबलदिया।इसमौकेपरशिक्षकअजयकुमारपांडेय,विनोदकुमारराय,मु.इनामहसन,फैयाजआलम,आबेदाखातूनसहितअन्यथे।