विडंबना है कि जिस देश में मंदिर पर हमला हुआ, वह शांति पर संरा के प्रस्ताव में सह-प्रायोजक है: भारत

(योशितासिंह)संयुक्तराष्ट्र,22जनवरी(भाषा)‘‘शांतिकीसंस्कृति’’विषयपरसंयुक्तराष्ट्रकेएकप्रस्तावकोसह-प्रायोजितकरनेकोलेकरपाकिस्तानकोभारतनेआड़ेहाथोंलेतेहुएकहाकिउसदेशमेंअल्पसंख्यकोंकेअधिकारोंको‘कमजोर’करदियागयाऔरएकऐतिहासिकमंदिरपरहुएहमलेकेदौरानवहांकीकानूनप्रवर्तनएजेंसियां‘मूकदर्शक’बनीरहीं।पिछलेवर्षदिसंबरमें,पाकिस्तानमेंखैबरपख्तूनख्वाप्रांतकेकारकजिलेकेटेर्रीगांवमें,कुछस्थानीयमौलानाओंतथाकट्टरपंथीइस्लामीपार्टीजमीयतउलेमाएइस्लामकेसदस्योंकेनेतृत्वमेंभीड़नेएकमंदिरमेंआगलगादीथी।इसहमलेकीमानवाधिकारकार्यकर्ताओंतथाअल्पसंख्यकहिंदूसमुदायकेनेताओंनेकड़ीआलोचनाकीथी,जिसकेबादपाकिस्तानकेउच्चतमन्यायालयनेमंदिरकेपुनर्निर्माणकाआदेशदियाथा।भारतनेइसपड़ोसीदेशमें‘धार्मिकस्थलोंकीसुरक्षाकेलिएशांतिऔरसहिष्णुताकीसंस्कृतिकोबढ़ावादेने’केप्रस्तावकोस्वीकारकरनेकेसंबंधमेंअपनेवक्तव्यमेंबृहस्पतिवारकोकहा,‘‘यहबहुतबड़ीविडंबनाहैकिवहदेश,जहांहालहीमेंमंदिरपरहमलाहुआऔरउसेध्वस्तकरदियागयातथाजहांइसतरहकेहमलेसिलसिलेवाररूपसेहोतेरहतेहैंऔरजहांअल्पसंख्यकोंकेअधिकारोंको‘कमजोर’करदियाजाताहै,वहदेश‘शांतिकीसंस्कृति’विषयकेतहतप्रस्तावकाएकसह-प्रायोजकहै।’’भारतनेकहा,‘‘इसप्रस्तावकीआड़लेकरपाकिस्तानजैसेदेशछिपनहींसकतेहैं।’’गौरतलबहैकिसंयुक्तराष्ट्रमहासभानेबृहस्पतिवारकोप्रस्तावपारितकिया,जिसमेंऐसेधार्मिकस्थलोंकोविश्वमेंलक्षिततरीकेसेनिशानाबनायेजाने,उनकाविध्वंसकरने,उन्हेंक्षतिग्रस्तकरनेयाउन्हेंखतरेमेंडालनेजैसेसभीकृत्योंकीनिंदाकीगयीहै।प्रस्तावमेंकिसीधार्मिकस्थलकोदूसरेधर्मकेलिएउपासनास्थलमेंजबरनतब्दीलकरनेकेभीकिसीकदमकीनिंदाकीगयीहै।प्रस्तावकेसह-प्रायोजकमेंपाकिस्तानऔर21अन्यदेशहैं।भारतनेप्रस्तावपरअपनीस्थितिकीव्याख्याकरतेहुएपाकिस्तानकेकारककस्बेमेंएकमंदिरपरहुएहमलेका,एकसिखगुरुद्वारेपरहुएहमलेकातथाअफगानिस्तानमेंबामयानबुद्धप्रतिमाकोनुकसानपहुंचानेकाजिक्रकियाहै।भारतनेकहाकिबढ़तेआतंकवाद,हिंसकउग्रवाद,चरमपंथऔरअसहिष्णुताकेदौरमेंधार्मिकस्थलऔरसांस्कृतिकधरोहरोंकोआतंकीकृत्यों,हिंसाएवंविनाशकाखतराहै।भारतनेविशेषरूपसेधर्मकेमुद्देपरसंयुक्तराष्ट्रमेंचर्चाकाआधारतैयारकरनेकेलिएउद्देश्यपरकताऔरनिष्पक्षताकेसिद्धांतोंकेअनुपालनकाआह्वानकिया।बयानमेंकहागया,‘‘हमेंउनताकतोंकेखिलाफएकजुटहोनाचाहिएजोसंवादऔरशांतिकीजगहहिंसाऔरनफरतकोस्थानदेतीहैं।’’