स्वतंत्रता संग्राम सेनानी का निधन, शोक की लहर

जागरणसंवाददाता,पीडीडीयूनगर(चंदौली):स्वतंत्रतासंग्रामसेनानीअमोघपुरगांवनिवासीरघुवंशरामकागुरुवारकोनिधनहोगया।उन्होंनेसुबहछहबजकर32मिनटपरअंतिमसांसली।राजकीयसम्मानकेसाथउन्हेंअंतिमविदाईदीगई।वेलंबेसमयसेबीमारचलरहेथे।रेलवेकीसेवाकेबादउन्होंनेपंडितदीनदयालमंडलकेइलेक्ट्रिकलविभागसेअवकाशग्रहणकियाथा।

स्वतंत्रतासंग्रामसेनानीरघुवंशराममूलरूपसेबिहारकेऔरंगाबाद,अंकोढ़ागांवकेनिवासीथे।वर्ष1954सेहीवेपरिजनोंकेसाथनियामताबादविकासखंडकेअमोघपुरगांवमेंमकानबनाकरपरिवारकेसाथरहतेथे।पत्नीनैपूरीदेवीकापांचदिसंबर1979मेंनिधनहोगयाथा।58सालकीउम्रमेंरघुवंशराम31मार्च1998कोसेवानिवृत्तहोगए।क्षेत्रकेविकासकेलिएसक्रियरहतेहुएसमस्याओंकेप्रतिसमाजमेंसबसेआगेथे।उनकेनिधननेहरकिसीकीआंखेंनमकरदी।सूचनामिलतेहीएसडीएम,अलीनगरथानाप्रभारी,लेखपालजयप्रकाशवविपिनपहुंचेगए।उपजिलाधिकारीऔरअलीनगरथानाप्रभारीनेसलामीदी।गार्डआफरऑनरदेकरअंतिमसंस्कारकियागया।उनकेपरिवारमेंबेटेलालमोहनकुमार,विजयकुमार,संजयशर्मावअजयकुमारअकेलाऔरएकबेटीअंजनाहैं।

उड़ादियाथारेलवेपुल

अंग्रेजोंकेखिलाफआंदोलनमेंभागलेकरउनसेलोहालेतेरहे।उन्होंनेअंग्रेजोंकीतमामयातनाएंभीसही।अपनेकुछसाथियोंकेसाथमिलकरउन्होंनेऔरंगाबादमेंरेलवेपुलकोबमसेउड़ादियाथा।गांधीजीकेसाथमिलकरअंग्रेजोंकेखिलाफमोर्चाखोलाथा।

गयासेपीडीडीयूनगरतकपदयात्रा

स्वतंत्रतासंग्रामसेनानीरघुवंशनेएकसेबढ़करएककारनामेकिए।उनकेआगेतोअंग्रेजोंकीएकनहींचलतीथी।वेजहांसेगुजरतेथे,काफिलाउनकेपीछेहमेशारहताथा।एकबारतोउन्होंनेगयासेमुगलसराय(अबपंडितदीनदयालउपाध्यायनगर)तकपदयात्राकीथी।

रेलकर्मीहूं,नहींचाहिएपेंशन

स्वतंत्रतासंग्रामसेनानीकोसरकारकीतरफसेपेंशनदियाजाताहै।जबस्वतंत्रतासेनानीरघुवंशरामकोपेंशनकेलिएआवेदनमांगागयातोउन्होंनेसरकारकोएकलेटरलिखा।जिसपरउन्होंनेलिखाथाकिमैंरेलकर्मीहूं,पेंशननहींचाहिए।इससोचकीहरकिसीनेतारीफकी।