सुविधाओं का सिर्फ नाम, असलियत में मासूमों की ¨जदगी से खिलवाड़

जागरणसंवाददाता,कन्नौज:

जिलेमेंहजारोंबच्चोंकी¨जदगीदांवपरलगीहै।सुविधाओंकेनामपरमासूमोंकीजानसेखिलवाड़होरहाहै।स्कूलवाहनकीजगहडग्गामारयाफिरकामर्शियलवैनसेबच्चोंकोढोयाजारहाहै।आपकेजिगरकेटुकड़ेप्रतिदिनखतरनाकवाहनोंपरघरसेस्कूलवस्कूलसेघरबच्चेसफरकररहेहैं।प्राइवेटस्कूलोंमेंलगेअधिकांशवाहनअपंजीकृतहैं।इनकेकोईमानकभीनहींहैं।यहवाहनअवैधरूपसेलगीएलपीजीकिट(घरेलूसिलिंडरों)सेदौड़ाएजारहेहैं।इससेजिम्मेदारअंजानबनेहुएहैं।हादसेकेबादभीसबकनहींलियाजाताहैनहीकार्रवाईकीजातीहै।बाजारमेंखुलेआमगैसरिफ¨लगकीजातीहै।यहांभीहादसेसेइन्कारनहींकियाजासकताहै।कईप्रशासननेकड़ारुखअख्तियारकरस्कूलप्रबंधक,डीआइओएसवबीएसएकोफटकारलगाईलेकिननतीजाशून्यहै।जरूरीहैयहमानक

-स्कूलीवाहनकारंगपीलाहोनाचाहिए।

-वाहनकेआगे-पीछेस्कूलबसकेसाथस्कूलकानामऔरफोननंबरहो।

-प्राथमिकउपचारकीकिटवअग्निशमनयंत्रहोनाअनिवार्य।

-बसवमिनीबसोंकोहीपरमिट।

-वेंचरऔरकामर्शियलवैनकोस्कूलकीअनुमतिपरपरमिट।

-वाहनोंकेशीशेमेंजालजरूरीहै।

-चालकअनुभवीहोऔरनशानकरताहो।

-स्कूलसेलिखास्वीकृतपत्र।

-टैक्सवफीसपेडवाहन।पंजीकृतस्कूलवाहनसंख्या

एलपीजीकिटवाहनशून्य

एलपीजीसेंटरशून्यशिक्षाकेनामपरव्यापार

अधिकांशस्कूलशिक्षाकेनामपरव्यापारकररहेहैं।बच्चोंकोघरसेलाने-लेजानेकेनामपरमोटीरकमवसूलीजारहीहै।आंकड़ोंकेमुताबिकजिलेभरमें1,200निजीविद्यालयसंचालितहैं।सभीनेअपनेनिजीवाहनलगारखेंहैं।एकसेदोहजाररुपएतकप्रतिमाहफीसकेसाथशुल्कलियाजाताहै।बच्चेभीठूंस-ठूंसकरभरेजातेहैं।गाड़ियोंकेखिड़की-दरवाजेहमेशाखुलेरहतेहैं।कईवाहनोंकीसालोंफिटनेसनहींकराईजातीहै।

अभियानचलाकरमानकविरुद्धवाहनोंपरकार्रवाईकीजाएगी।बच्चोंकीजानसेखिलवाड़नहींहोनेदेंगे।गुरुवारकोकईवाहनोंपरकार्रवाईकीगईहै।वाहनविपरीतवाहनसीजकिएजाएंगे।लापरवाहचालकोंपरकार्रवाईकीजाएगी।-संजयझा,एआरटीओ।