सुविधाएं मिलें तो ओलंपिक में जीत सकते हैं मेडल

जागरणसंवाददाता,रुद्रपुर:फेंसिगखेलकोलेकरखिलाड़ियोंमेंजुनूनबहुतहैं,लेकिनखिलाड़ियोंकोसहीउपकरणऔरमार्गदर्शनकेसाथहीआर्थिकमददमिलेतोनिश्चितहीखिलाड़ीकामनवेल्थऔरओलंपिककेखेलोंमेंदेशकानामरोशनकरसकतेहैं।खिलाड़ियोंनेकहाकिजरूरीनहींकिफेंसिगकेखिलाड़ीअमीरपरिवारसेहों।उन्हेंभीमददकीजरूरतहैं।इसखेलमेंएकाग्रताऔरस्फूर्तिदोनोंकीबेहदजरुरतहै।खिलाड़ियोंनेकहाकिभारतमेंफेंसिगकेखिलाड़ियोंकीसंख्याकमहै।इसखेलकोबढ़ावातबमिलेगाजबक्रिकेट,फुटबालऔरअन्यखेलोंकीतरहइसेभीप्राथमिकतामिले।

क्याकहतेहैंअंतरराष्ट्रीयफेंसर

अबतक15सेअधिकअंतरराष्ट्रीयमैचखेलचुकाहूं।एशियनगेम्स,व‌र्ल्डचैंपियनशिप,थाइलैंडओपनआदिमेंकुलआठसेअधिकगोल्डजीतचुकेहैं।राष्ट्रीयस्तरपर25सेअधिकस्वर्णपदकअर्जितकियाहै।इसखेलकोलेकरअनुभवभीहै।जोखिलाड़ीशुरुआतीदौरकेहैंउन्हेंपूराफोकसअभ्यासपरकरनाचाहिए।

-टीएचराजेश,अंतरराष्ट्रीयफेंसिगखिलाड़ी

भारतमेंलोगक्रिकेटकोअधिकप्राथमिकतादेतेहैं।इसखेलकोलेकरपहलेकीअपेक्षाखिलाड़ियोंकीसंख्याबढ़ीहै।भारतसेऔरबेहतरखिलाड़ीनिकलेंगे।ओलंपिककेलिएचयनितभवानीदेवीकेइससफलताकेबादमहिलाखिलाड़ीकाफीउत्साहितहैं।

-बिक्की,अंतरराष्ट्रीयखिलाड़ी,एसएससीबी

पांचसेअधिकअंतरराष्ट्रीयमैचोंमेंगोल्डऔरएकसिल्वरपदकजीतचुकेहैं।ओलंपिकमेंमेडललानेकाउद्देश्यहै।इंडियामेंपहलेइसखेलकोबहुतकमलोगजानतेथे।अबपहलेकीअपेक्षाकाफीबदलावहै।खिलाड़ियोंकीहरतरहसेसुविधाएंमिलेतोनिश्चितहीइंडियाफेंसिगमेंटापदेशोंमेंहोगा।

-देव,अंतरराष्ट्रीयखिलाड़ी,हरियाणा

खिलाड़ियोंकीप्रतिभाकोसहीमंचदेनेकेलिएस्थानीयस्तरपरप्रतियोगिताएंहोतीरहे,इसकेलिएखेलविभागकीओरसेसुविधाएंसुनिश्चितहो।ग्रासफुटलेवलकेखिलाड़ीहैंउन्हेंअभ्यासपरफोकसकरनाचाहिए।किटमहंगीहैइसकेलिएकमसेकम50हजारसेसवालाखरुपयेतकखर्चहोतेहैं।इससेभीखिलाड़ीपीछेहोरहेहोंगे।

-निनथाइबा,अंतरराष्ट्रीयफेंसिगखिलाड़ी,मणिपुर