स्कूलों की फीस को लेकर अब तक नहीं आया कोई सरकारी आदेश, अभिभावकों को उम्मीद है कि माफ हो जाएगी

9माहसेस्कूलबंदहैं।गार्जियंसपरफीसकादबावहै।सरकारभीपूरीतरहसेखामोशहै।अबबड़ाकंफ्यूजनयहहैकिफीसमाफहोगीयादेनीपड़ेगी।प्राइवेटस्कूल्सएंडचिल्ड्रेनवेलफेयरएसोसिएशननेसरकारसेस्पेशलपैकेजकीमांगकीहैताकिअभिभावकोंकोकुछराहतदेसकें।ऐसेमेंअभिभावकोंकीनजरअबसरकारपरटिकीहै।

इसखाससीरीजकीपहलीदोखबरें:

अभिभावकोंकेसामनेदोहराटेंशन

लंगरटोलीकेरहनेवालेमो.शमसुद्दीनकीतरहबिहारकेहरअभिभावककेसामनेदोहराकंफ्यूजनहै।शमसुद्दीनकोअपनेदोनोंबच्चोंकेभविष्यकोलेकरचिंताबढ़गईहै।अबकहांऔरकैसेपढ़ाईहोगी?स्कूलकेबकायाफीसकाक्याहोगा,कहांसेजमाकियाजाएगाऔरकैसेएडमिशनहोगा?बच्चोंकेभविष्यकेसाथअबस्कूलोंकीफीसकाटेंशनपरेशानकररहाहै।किदवईपुरीकीरहनेवालीरितुचौबेकाकहनाहैकिवहकाफीकंफ्यूजनमेंहैं।स्कूलबार-बारफीसकीडिमांडकररहाहै।उनकेपासपैसानहींहै।फीसमाफहोगीयादेनीपड़ेगी,यहसमझमेंनहींआरहाहै।

राजीवनगरकीसुमनसिंहकाकहनाहैकिसरकारस्कूलोंकोलेकरपूरीतरहसेशांतबैठीहै।कोरोनाकालमेंपढ़ाईभीनहींहुईऔरपैसाभीनहींहै।अबस्कूलकीफीसऔरबच्चोंकाभविष्य,दोनोंकीचिंताहै।सुमनसिंहकाकहनाहैकिनएसत्रमेंबच्चोंकास्कूलबदलनाचाहतीहैं,अबस्कूलबदलनेदेगायानहीं,यहसमझमेंनहींआरहाहै।

ऑनलाइनपढ़ाईकाधोखादेकरमांगरहेफीस

मजिस्ट्रेटकॉलोनीकेजयप्रकाशकाकहनाहैकिऑनलाइनपढ़ाईतोसिर्फफीसकेलिएहीकीजारहीहै।इससेकोईपढ़ाईनहींहोरहीहै।बच्चोंकीआंखखराबहोरहीहैऔरआदतबिगड़रहीहै।स्कूलकेलिएतोबसयहफीसवसूलनेकाएकबहानामात्रहै।मोबाइलकानेटपैकखत्महोजाताहै,इसकेबादभीबच्चोंमें50प्रतिशतभीज्ञाननहींआरहाहै।

पटनामेंरहकरदोबच्चोंकीपढ़ाईकरारहीकेसरीनगरकीनीलमकाभीकहनाहैकिऑनलाइनपढ़ाईकेपीछेस्कूलकीमंशाफीसवसूलीकीहै।सरकारकोकोईआदेशजारीकरनाहोगा,जिससेअभिभावकोंकाकंफ्यूजनदूरहोसके।

स्कूलपैसावसूलनेकीकररहेतैयारी

एकतरफअभिभावकअपनीआर्थिकस्थितिकाहवालादेकरफीसमाफकरनेकीमांगकररहेहैं।दूसरीतरफस्कूलभीसरकारसेस्पेशलपैकेजकीआसलगाएहैं।स्कूलबच्चोंकीबकायाफीसवसूलनेकोलेकरअपनाआधारदिखारहेहैं।बुधवारकोप्रदेशके38जिलोंके20हजारसेअधिकस्कूलोंकेसंचालकोंसेकीआपसीवार्ताहुई।इसेआधारबतातेप्राइवेटस्कूल्सएंडचिल्ड्रनवेलफेयरएसोसिएशनकेराष्ट्रीयअध्यक्षसैयदशमायलअहमदनेकहाकिवहसरकारकेआदेशकेइंतजारमेंहैं।स्पेशलपैकेजमिलताहैतभीअभिभावककोराहतमिलसकतीहै।स्कूलसंचालकोंकेपासदोहीरास्ताहै,यातोफीसलियाजाएयाफिरस्कूलहमेशाकेलिएबंदकरदियाजाए।

स्कूलोंकीतरफसेबुधवारकोयहभीनिर्णयलियागयाहैकिजिसअभिभावककीआर्थिकस्थितिठीकनहींहै,उन्हेंराहतदीजाएगी।स्कूलबिजलीकाबिलमाफकरने,गाड़ियोंकारोडटैक्समाफकरने,गाड़ीकीईएमआईपरलगनेवालेब्याजकेअलावाउनपरलगनेवालेटैक्सकोभीमाफकरनेकीमांगकररहेहैं।