सिल्वर जुबली पर इतराया अपना जिला

जागरणसंवाददाता,ग्रेटरनोएडा:

अपनेआंचलमेंरामायणऔरमहाभारतकाइतिहाससमेटेउत्तरप्रदेशकीआर्थिकराजधानीगौतमबुद्धनगरकीस्थापनाकोपच्चीसवर्षपूरेहोगए।बैलगाड़ीवखेतखलिहानकीपगडंडियोंकीपहचानकोपीछेछोड़जिलाव‌र्ल्डक्लाससिटीकेरूपमेंविकसितहोरहाहै।यहांविश्वस्तरीयशिक्षाकेकेंद्र,औद्योगिकइकाइयां,प्रदेशकेविभिन्नजिलोंकोजोड़नेवालाएक्सप्रेससहिततमामसुविधाएंमौजूदहैं।जिलेकेताजमेंजल्दहीएयरपोर्टवफिल्मसिटीकेरूपमेंदोनायाबहीरेजुड़जाएंगे।

गौतमबुद्धनगरकीस्थापनासातमई1997मेंहुईथी।जिलेकाहिस्सापूर्वमेंगाजियाबादवबुलंदशहरमेंथा।दोनोंस्थानोंसेहिस्सोंकोकाटकरतत्कालीनमुख्यमंत्रीमायावतीनेगौतमबुद्धनगरकीस्थापनाकीथी।जिलेकेरूपमेंपहचानमिलनेसेयहांकेलोगोंकोखुशीहुईथी,लेकिन13जनवरी2005कोसपासरकारनेजिलातोड़दियाथा।निर्णयकेविरोधमेंलोगोंनेजमकरबवालकियाथा।बादमेंइलाहाबादउच्चन्यायालयनेजिलाबहालकियाथा।वर्तमानमेंप्रदेशमेंसबसेअधिकराजस्वदेनेवालाजिलागौतमबुद्धनगरहै।रामायणवमहाभारतकाइतिहाससमेटेहैजिला

जिलेकाइतिहासरामायणकालसेहै।बिसरखगांवरावणकेपिताऋषिविश्रवाकाजन्मस्थानहै।दनकौरकस्बामहाभारतकालसेताल्लुकरखताहै।दनकौरमेंगुरुद्रोणाचार्यकाआश्रमथा।एकलव्यनेभीयहींपरगुरुद्रोणाचार्यकीमूर्तिबनाधनुर्विद्यासीखीथी।दनकौरमेंबनेऐतिहासिकद्रोणमंदिरमेंएकलव्यकेद्वाराबनाईगईमूर्तिआजभीरखीहुईहै।देशकीआजादीमेंहैजिलेकायोगदान

देशकीआजादीमेंजिलेकेलोगोंकाविशेषयोगदानइतिहासकेपन्नोंमेंदर्जहै।दादरीकेरहनेवालेराजारावउमरावसिंहनेअपनेलोगोंकेसाथअंग्रेजोंसेलोहालियाथा।अंग्रेजोंकोबैलबनाकरखेलमेंहलचलवायाथा।बादमेंउन्हेंऔरउनकेसाथियोंकोफांसीपरलटकादियाथा।जिलेकेनलगढ़ागांवमेंरहकरभगतसिंहनेबमबनायाथा।शिक्षावउद्योगकाकेंद्रहैजिला

गौतमबुद्धनगरशिक्षाकेकेंद्रकेरूपमेंहै।जहांपरनालेजपार्कमेंसौसेअधिकशिक्षणसंस्थानहैं।साथहीजिलेमेंसातविविभीहैं।यहांकेकालेजवविविमेंदेशहीनहींविश्वकेकोने-कोनेसेआकरछात्रशिक्षाग्रहणकरतेहैं।विभिन्नराष्ट्रीयवअंतरराष्ट्रीयऔद्योगिकइकाइयांयहांपरस्थापितहैं।इनइकाइयोंमेंलाखोंकीसंख्यामेंलोगोंकोरोजगारमिलाहुआहै।