सीलमपुर हिंसा: ड्राइवर को थी बस पर हमले की आशंका, अपनी सूझ बूझ से स्कूली बच्चे को बचाया

नईदिल्ली: उत्तर-पूर्वीदिल्लीकेसीलमपुरइलाकेमेंकलनागरिकता(संशोधन)कानूनकेखिलाफप्रदर्शननेहिंसकरूपलेलिया.इसदौरानएकस्कूलबसकेड्राइवरनेबसपरहमलेकीआशंकाकोभांपतेहुएअपनीसूझबूझसेबसमेंबैठेबच्चेकोबचालिया.ड्राइवस्कूलीबच्चोंकोघरछोड़रहाथा.

ड्राइवरनेकरदियाथामाता-पिताकोफोन

दरअसल,चालकनेबसमेंबचेआखिरीबच्चेकेमाता-पिताकोफोनकॉलकरनिर्धारितस्थानसेकुछमीटरपहलेहीबुलालियाऔरबच्चेकोउन्हेंसौंपदिया.इसकेबादप्रदर्शनकारियोंनेइसबसपरपथरावकिया.विवेकविहारस्थितअरवाचीनभारतीभगवानसीनियरसेंकेंडरीस्कूलकेपरिवहनप्रबंधकचंद्रशेखरकेमुताबिक,बसमें25-30छात्रथे,जिन्हेंसीलमपुरऔरजाफराबादमेंछोड़ाजानाथा.

जाफराबादमेंदोघंटेतकफंसेरहेस्कूलीछात्र

हालांकि,बसमेंउसवक्तसिर्फएकहीछात्रथाजबएकपत्थरबसकेशीशेपरआकरलगा.वहीं,इलाकेमेंमंगलवारकोहिंसकप्रदर्शनोंकेदौरानजाफराबादमें21छात्रअपनेस्कूलमेंकरीबदोघंटेतकफंसेरहे.एमसीडीसकूलकेएकअधिकारीनेबतायाकिस्कूलकेसमीप‘‘भारी’’पथरावहुआऔरछात्रोंकीसुरक्षाकेलिएस्कूलकागेटबंदकरदियागया.उन्होंनेबतायाकिइसस्कूलमें200छात्रपढ़तेहैंलेकिनशहरमेंप्रदर्शनकेकारणमंगलवारकोकेवल21छात्रहीआएथे.

CAAसेजुड़ीपल-पलकीअपडेट्सकेलिएयहांक्लिककरें

चालककोअंदाजाहोगयाथाकिस्थितितनावपूर्णहोसकतीहै

अधिकारीनेबतायाकिबच्चोंकेमाता-पिताकेस्कूलपहुंचनेकेबादउन्हेंपिछलेदरवाजेसेबाहरलेजायागया.यहस्कूलजाफराबादपुलिसथानेकेनजदीकस्थितहै.चंद्रशेखरनेकहा,‘‘यहपत्थरप्रदर्शनकारियोंनेनहींफेंकाथा,बल्किजाफराबादमेंस्थितकिसीघरमेंसेफेंकागयाथा.इसपरचालककोअंदाजाहोगयाकिस्थितितनावपूर्णहोसकतीहैऔरउसनेबसमेंबैठेछात्रकेमाता-पिताकोकॉलकिया.’’

उन्होंनेकहाकिछात्रकोजहांछोड़नाथा,बसउससेकुछमीटरकीदूरीपरथीलेकिनचालकनेउसकेमाता-पिताकोकॉलकरकेनिर्धारितस्टॉपसेपहलेबुलालिया.चंद्रशेखरनेबतायाकिमाता-पिताकोबच्चेकोसुरक्षितसौंपनेकेबादचालकनेयूटर्नलेकरबसकोविवेकविहारजानेलगालेकिनयहबसप्रदर्शनकारियोंकेबीचफंसगईऔरप्रदर्शनकारियोंनेइसपरपथरावकियाजिसमेंबसकेशीशेटूटगए.