शीर्ष अदालत ने दिल्ली उच्च न्यायालय से कहा, दो महीने में मृत्युदंड पाने वाले के अनुरोध पर हो फैसला

नयीदिल्ली,12जनवरी::उच्चतमन्यायालयनेआजदिल्लीउच्चन्यायालयसेदोमहीनेकेभीतरमृत्युदंडपानेवालेएकदोषीकीइसयाचिकापरफैसलाकरनेकोकहाजिसमेंउसकीदयायाचिकापरफैसलेमेंदेरीकेआधारपरउसकीसजाघटाकरउम्रकैदकरनेकाअनुरोधकियागया।न्यायमूर्तिदीपकमिश्राऔरन्यायमूर्तिआरभानुमतिकीपीठनेअटार्नीजनरलमुकुलरोहतगीकीबातोंपरसंग्यानलेतेहुएयहआदेशपारितकिया।रोहतगीनेकहाकिअगरशीर्षअदालतउच्चन्यायालयोंकेक्षेत्राधिकारसेसंबंधितकानूनीमुद्दोंपरगौरकरेगीतोदेरीसेमृत्युदंडपानेवालेदोषीकोलाभहोगा।शीर्षअदालतनेछत्तीसगढ़सरकारकीस्थानान्तरणयाचिकाकानिपटाराकरतेहुएयहनिर्देशदिया।इसयाचिकामेंआरोपलगायागयाहैकिदिल्लीउच्चन्यायालयकेपास2004मेंउसकेक्षेत्रमेंदोबच्चोंसहितपांचलोगोंकीहत्याकेदोषीव्यक्तिकीमौतकीसजापररोकलगानेकाकोईक्षेत्राधिकारनहींहै।उच्चन्यायालयनेछहदिसंबर2016कोदियेआदेशमेंकहाथाकिराष्ट्रपतिद्वारादयायाचिकाखारिजकियाजानादिल्लीमेंकानूनीकार्यवाहीशुरूकरनेकाआधारपैदानहींकरता।अदालतनेदोमार्च2015कोसोनूसरदारकीमौतकीसजापररोकलगाईथीजिसकेबादछत्तीसगढसरकारनेइसमामलेकोसुननेकेउसकेक्षेत्राधिकारकोचुनौतीदेतेहुएउच्चतमन्यायालयकादरवाजाखटखटायाथा।