सौभाग्य से प्राप्त होता है मानव जीवन

मुंगेर।प्रखंडकेनयाछावनीगांवमेंआगामी15-16अप्रैलकोहोनेवाले47वेंजिलावार्षिकसंतमतसत्संगकीसफलताकेलिएसत्संगमंदिरनयाछावनीमेंसत्संगियोंकीबैठकहुई।बैठककीअध्यक्षतादीपनारायणप्रसादयादवनेकी।मुख्यअतिथिबाबास्वामीप्रेमानंदएवंविशिष्टअतिथिस्वामीगुरुदेवभीमौजूदथे।स्वामीप्रेमानंदनेसत्संगियोंकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिसालमेंएकबारजिलामेंवार्षिकसंतमतसत्संगकाआयोजनहोताहै।इसकीसफलताकोलेकरसभीश्रद्धालुओंकोतन-मन-धनसेसहयोगकरनाचाहिए।उन्होंनेलोगोंकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिमानवजीवनसौभाग्यसेप्राप्तहोताहै।दानकरनेसेधननहींघटताहैबल्किइससेईश्वरकीकृपामनुष्यपरबनीरहतीहै।जिलावार्षिकसत्संगमेंकाफीअधिकखर्चहोताहै,इसकेलिएसभीसत्संगप्रेमियोंकोसहयोगकरनाचाहिए।उन्होंनेकहाकिगुरुदेवमहाराजहमेशालोगोंकोसंतोंकेसमीपरहनेकीसीखदेतेहुएकहाकिअगरमानवजीवनरूपीभवसागरकोपारकरनाहैतोध्यान,सत्संग,प्रभु-भजनकरतेरहनाचाहिए।उन्होंनेकहाकि27वर्षोंकेबादनयाछावनीगांवमेंजिलाकावार्षिकअधिवेशनकरायाजारहाहै।इसअवसरपरआयोजनसमितिकेसचिवसुदामाचौधरी,कोषाध्यक्षजगदीशप्रसादसाह,उपाध्यक्षयुधिष्ठिरशर्मा,कृष्णदेवतांती,ब्रह्मदेवयादव,रामचंद्रप्रसादसाहसहितकईसत्संगप्रेमीउपस्थितथे।