Rajasthan: अर्जुन अवार्डी सुरेंद्र कुमार कटारिया का काटना पड़ा पांव

उदयपुर,संवादसूत्र।SurendraKumarKataria:बास्केटबॉलकीदुनियामेंभारतकेबेहतरीनखिलाड़ीऔरशूटरकीखोजकीजाएतोमहजएकनामसामनेआताहैवहहैंसुरेंद्रकुमारकटारिया। खेलकेदौरानउनकीशूटिंगकेमुकाबलेकाखिलाड़ीकीतलाशअभीभीजारीहै।अपनेटांगोंकीताकतसेउछलकरबास्केटकीटोकरीमेंबॉलकोअपनेविशिष्टअंदाजमेंफेंकनेवालायहखिलाड़ीअबअपनीटांगोंपरखड़ेनहींहोपाएंगे।गुरुवारकोउदयपुरकेगीतांजलीअस्पतालमेंजिंदगीबचानेकेलिएउनकीएकटांगकाटनीपड़ी।डायबिटीजकेबादगैंगरीनकेचलतेउनकीटांगकाटनेकामुश्किलफैसलाचिकित्सकोंकोलेनापड़ा।राजस्थानकेभीलवाड़ामेंचौदहअगस्त,1951कोजन्मेबास्केटबॉलमेंअर्जुनअवार्डीखिलाड़ीवकोचसुरेंद्रकुमारपिछलेमहीनेसेबीमारथे।

उनकाउपचारजयपुरकेसवाईमानसिंहअस्पतालमेंचलरहाथा।जहांस्वास्थ्यलाभनहींमिलनेपरपरिजनउन्हेंउदयपुरलेआएऔरगीतांजलीमेडिकलकॉलेजकेअस्पतालमेंभर्तीकरायाथा।गैंगरीनकेचलतेउनकाएकपांवखराबहोगयाऔरपूरेशरीरमेंगैंगरीननहींफैलेइसकेलिएउनकेएकपांवकोकाटनेकानिर्णयलियागया।अपनेचहेतेसुरेंद्रकुमारकेपैरकाटनेकीसूचनासेखेलप्रेमीनिराशहोउठे।

1973मेंमिलाथाअर्जुनपुरस्कार

बास्केटबॉलमेंबेहतरीनप्रदर्शनकेसाथकोचकेरूपमेंसेवाएंदेनेपरसुरेंद्रकुमारको1973मेंअर्जुनपुरस्कारसेसम्मानितकियागयाथा।उनसेपहलेउनकेआदर्शखुशीरामइससेसम्मानितहुएथे।उन्होंनेदेशकेलिएकईपदकजीतेऔरउनकाजैसातेजशूटरदेशमेंआजतकनहींहुआ।राष्ट्रीयटूर्नामेंटमेंसुरेंद्रकुमारभारतीयरेलवेकाप्रतिनिधित्वकरतेथेऔरकईराष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीयप्रतियोगितामेंभागलियाथा।

येहैंकटारियाकीप्रमुखउपलब्ध्यिां

1969मेंबैंकाक(थाईलैंड)में5वींएशियाईबास्केटबॉलचैंपियनशिपमें

भारतकाप्रतिनिधित्व।

1970मेंसियोल(दक्षिणकोरिया)मेंआयोजितपहलीयूथएशियनबास्केटबॉल

चैंपियनशिप मेंभारतकाप्रतिनिधित्व।

1970मेंमनीला(फिलीपींस)मेंएशियाईबास्केटबॉलचैंपियनशिप  की10वीं

वर्षगांठमेंभारतकाप्रतिनिधित्वकियाऔरएबीसीकाकांस्यपदकजीता।

1970मेंबैंकाक(थाईलैंड)मेंआयोजितछठेएशियाईखेलोंमेंभारतकाप्रतिनिधित्व।

1973मेंमनीला(फिलीपींस)मेंआयोजितसातवींएशियाईबास्केटबॉल

प्रतियोगितामेंभारतकाप्रतिनिधित्व।

मनीलामेंआयोजितसातवींएशियाईबास्केटबॉलप्रतियोगिताकेदौरान1973में

एशियाईटीमकेलिएचयनित।

1973मेंमनीला(फिलीपींस)मेंआयोजितसातवींएशियाईबास्केटबॉल

चैंपियनशिप मेंएएसआइआइएकेसेकंडटॉपस्कोरररहे।

1973मेंबैंकाक(थाईलैंड)मेंआयोजितआठवींएशियाईबास्केटबॉल

प्रतियोगितामेंभारतकाप्रतिनिधित्व।

1975मेंकलकत्ताअबकोलकातामेंयूएसएसआरटीमकेखिलाफभारतकाप्रतिनिधित्व।

1963से1968तकराष्ट्रीयबास्केटबॉलप्रतियोगितामेंराजस्थानराज्यकाप्रतिनिधित्वकिया।

1969से1971तकराष्ट्रीयबास्केटबॉलचैम्पियनशिपमेंराजस्थानराज्यकाप्रतिनिधित्वकियाऔररजतपदकजीता।

1977-78मेंभारतीयरेलवेबास्केटबॉलटीमकेकप्तान।

1981मेंरोमानियामेंआयोजितविश्वरेलवेखेलोंमेंभारतीयरेलवे

बास्केटबॉलटीमकेकोचकेरूपमेंप्रतिनिधित्वकियाऔरब्रोंजमेडलजीता।