राष्ट्रपति कोविंद ने दी दिल्ली नगर निगम संशोधन विधेयक को मंजूरी, एकीकरण से निगमों को होगा करीब 150 करोड़ का फायदा

नईदिल्ली,जागरणब्यूरो।दिल्लीनगरनिगमसंशोधनविधेयक-2022कोराष्ट्रपतिरामनाथकोविन्दनेमंजूरीदेदीहै।इसकेबादअबराजधानीमेंतीनोंनिगम(उत्तरी,पूर्वीऔरदक्षिणी)केस्थानपरदिल्लीनगरनिगम(एमसीडी)अस्तित्वमेंआगयाहै।हालांकि,दिल्लीनगरनिगमकबसेकामकाजशुरूकरेगायहकेंद्रीयगृहमंत्रालयकेआदेशसेस्पष्टहोगा।बतादेंकिलोकसभाने30मार्चऔरराज्यसभानेपांचअप्रैलकोइसविधेयककोमंजूरीदीथी।

केंद्रसरकारनेदिल्लीकेतीनोंनिगमोंमेंनीतियोंकीएकरूपताऔरआर्थिकसंकटसेउबारनेकेलिएएकीकरणकाफैसलालियाथा।इसकेतहतनिगमकेएक्टमेंसंशोधनकिएगएथे।संशोधनकेअनुसार,सरकारकाअर्थकेंद्रसरकारहोगा।वहीं,निगममेंसीटोंकीसंख्याअधिकतम250होगी।इसकेलिएजनगणनाकेआधारपरवार्डकापरिसीमनकियाजाएगा।जबतकपरिसीमनकीव्यवस्थाचलेगी,निगमकाकामकाजमहापौरकेस्थानपरकेंद्रद्वारानियुक्तविशेषषअधिकारीदेखेगा।

उल्लेखनीयहैकिवर्ष2011मेंदिल्लीविधानसभानेदिल्लीनगरनिगमकोतीननिगमोंमेंविभाजितकियाथा।जिसमेंपूर्वीऔरउत्तरीकेसाथदक्षिणीनिगमबनायागयाथा।लेकिन,संसाधनोंकेअभावमेंनिगमोंकाचलनामुश्किलहोगयाथा।इसकेकारणनिगमोंकोआर्थिकपरेशानियोंकासामनाकरनापड़रहाथा।वर्तमानएवंपूर्वकर्मचारियोंऔरअधिकारियोंकोवेतनऔरपेंशनजैसेलाभनहींमिलपारहेथे।एकीकरणहोनेसेहरसालनिगमोंकोकरीब150करोड़रुपयेकीबचतहोगी।यहराशिफिलहालतीननिगमहोनेसेहरविभागमेंतीन-तीनअधिकारीतैनातहोनेसेखर्चहोरहीथी।अब75केबजायमहज25समितियांहोंगी।वहीं,78विभागाध्यक्षकीजगह26विभागाध्यक्षहोंगे।

क्याकहाथाशाहने

विधेयकपरराज्यसभामेंचर्चाकाजवाबदेतेहुएगृहमंत्रीअमितशाहनेदिल्लीकीआमआदमीपार्टी(आप)सरकारपरनगरनिगमोंकेसाथसौतेलाव्यवहारकरनेकाआरोपलगातेहुएकहाथाकिवहनिगमोंकोप्रताड़ितकररहीहैऔरइससेदिल्लीकीजनतापीड़ितहोरहीहै।यहविधेयकसंविधानकेतहतप्रदत्तअधिकारकेमाध्यमसेलायागयाहै,जिसमेंकहागयाहैकिसंसदकोदिल्लीकेसंघराज्यक्षेत्रसेजु़ड़ेकिसीभीविषषयपरकानूनबनानेकाअधिकारहै।