राष्ट्रीयता तथा अनेकता में एकता का स्वर है हिन्दी

-हिन्दीदिवसपरटीटीकॉलेजमेंसेमिनारकाआयोजन

फोटोफाइलनंबर-14एसयूपी-6

जागरणसंवाददाता,सुपौल:राधेश्यामटीचर्सट्रे¨नगकॉलेजकेसभागारमेंशुक्रवारकोहिन्दीदिवससमारोहपूर्वकमनायागया।कॉलेजकेप्राचार्यडॉ.आर.एस.यादव,राकेशकुमार,रामानंदराय,राहुलकौशिक,नरेंद्र¨सह,शैलेन्द्रमिश्रा,रेखाकुमारी,खुशबूकुमारीनेसंयुक्तरूपसेदीपप्रज्ज्वलितकरकिया।अपनेसंबोधनमेंप्राचार्यनेकहाकिहिन्दीदिवस14सितंबरकोमनायाजाताहै।14सितंबर1949ई.कोसंविधानसभानेएकमतसेनिर्णयलियाकि¨हदीभारतकीराजभाषाहोगी।

राष्ट्रपितामहात्मागांधीने¨हदीसाहित्यसम्मेलनवर्ष1918में¨हदीभाषाकोराष्ट्रभाषाबनानेकोकहाथा।अपनेसंदेशमेंप्राचार्यनेकहाकिवर्तमानमेंहमसभीकोराजभाषा¨हदीकोसु²ढ़बनानेकाप्रयासकरनाचाहिए।उन्होंनेकहाकि¨हदीराष्ट्रीयता,भारतीयऔरअनेकतामेंएकताकास्वरहै।प्राध्यापकोंएवंप्रशिक्षुओंकोसलाहदीकिवहसभीएक-एक¨हदीशब्दकोषअपनेपासअवश्यरखें।इसअवसरपरकॉलेजकेसभागारमेंलेखनप्रतियोगिताकाभीआयोजनकियागया।जिसकाशीर्षक'¨हदीकावर्तमानऔरप्राचीनस्थितिमेंमहत्वरखागया।जिसमेंबीएडसत्र2018-20प्रथमवर्षकेप्रशिक्षुसंतोषपासवान,रामकल्याण,श्रवनकुमार,मु.शाहबाज,¨पटूकुमार,विक्रमआनंद,रविकुमार,दीपातथाडीएलएडसत्र2017-19द्वितीयवर्षकेप्रशिक्षुअमितकुमार,सुभाष,सौरव,गौरव,चन्दु,रीना,शोभा,रूपम,शालिनी,राकेश,एहतसामअहमद,संतोष,सुशांत,हैदरअलीनेप्रतियोगितामेंभागलिया।सभीप्रतिभागीकोकॉलेजकेप्राचार्यनेप्रशस्तिपत्रभीप्रदानकिया।समारोहमेंबीएडप्रशिक्षुसंतोषसुमन,प्रशांत,श्रुतिकुमारी,¨रकीकुमारी,सपना,अभय,नीरज,ज्योति,कन्हैया,संतोष,राहुल,रोहितआदिउपस्थितथे।इसअवसरपरकॉलेजकेअन्यकर्मीबसंतकुमारभारती,अमरेशझा,एकनारायण,र¨वद्रएवंसंतोषमौजूदथे।