नेपाल ने सीमा मुद्दा सुलझाने के लिए वार्ता की पैरवी की : मैत्री संधि की जल्द समीक्षा करने की मांग

नयीदिल्ली,15जनवरी(भाषा)भारतदौरेपरआएनेपालकेविदेशमंत्रीप्रदीपकुमारज्ञवालीनेशुक्रवारकोदोनोंदेशोंकेबीचलंबितसीमामुद्देकोसुलझानेकेलिएवार्ताकीपैरवीकी।उन्होंने1950कीद्विपक्षीयशांतिएवंमैत्रीसंधिकीजल्दसमीक्षाकरनेकीमांगकीतथाभारतकेसाथअपनेदेशकेव्यापारअसंतुलनपरचिंताप्रकटकी।‘इंडियनकाउंसिलऑफवर्ल्डअफेयर्स’मेंअपनेसंबोधनमेंज्ञवालीनेकहाकिभारतकेसाथअपनेसंबंधोंकोनेपालअगलेस्तरतकलेजानाचाहताहै।उन्होंनेसाथहीयहभीकहाकि‘‘हमेंसमानरूपसेसंबंधोंकोआगेबढ़ानाहोगा,सकारात्मकसोचकेसाथबदलतेआयामोंकेहिसाबसेएक-दूसरेकोसमझनाहोगा।’’सीमाविवादकाहवालादेतेहुएनेपालकेविदेशमंत्रीनेकहाकिसमाधानतलाशनेसेद्विपक्षीयसंबंधोंमेंविश्वासबढ़ेगा।ज्ञवालीनेकहाकिदोनोंपक्षोंनेबातचीतकेजरियेसीमाकेसवालकोसुलझानेपरसहमतिव्यक्तकी।उन्होंनेकहाकिएकमुद्देपरमतभेदकेअलावासम्पूर्णसंबंधोंमेंगतिआईहै।ज्ञवालीनेकहा,‘‘इसभावनाकेतहतहमशेषक्षेत्रोंमेंसीमानिर्धारणकेप्रश्नकेसमाधानकेलिएबातचीतशुरूकरनेकोइच्छुकहैं।मैंसमझताहूंकिइसपरकामकरसकतेहैंऔरउसस्थितितकपहुंचसकतेहैं।’’उन्होंनेकहा,‘‘हमसमझतेहैंकिहमेंलंबितमुद्दोंकोहमेशाबरकरारनहींरखनाचाहिएऔरमित्रतापूर्णसंबंधोंकीराहमेंइन्हेंनहींआनेदेनाचाहिए।’’भारतकेतीनदिनोंकेदौरेपरआएज्ञवालीनेशुक्रवारकोविदेशमंत्रीएसजयशंकरकेसाथविभिन्नमुद्दोंपरव्यापकचर्चाकी।नेपालकेकूटनीतिकसूत्रोंनेबतायाकिदोनोंविदेशमंत्रियोंकीबैठकमेंसीमामुद्दाभीउठा।नेपालसरकारद्वारापिछलेसालविवादितनयानक्शाप्रकाशितकिएजानेकेकारणउभरेसीमाविवादकेबादइसदेशकेकिसीवरिष्ठनेताकीयहपहलीभारतयात्राहै।इसविवादितनक्शेमेंभारतीयक्षेत्रलिम्पियाधुरा,कालापानीऔरलिपुलेखकोनेपालकाहिस्सादर्शायागयाथा।नेपालकेइसकदमपरभारतनेकड़ीआपत्तिदर्जकराईथीऔरउसकेदावेकोखारिजकियाथा।नेपालकेविदेशमंत्रीनेकहाकिभारतऔरनेपालकेबीच1800किलोमीटरकीअंतरराष्ट्रीयसीमाहैऔरइसमेंसेअधिकांशकासंयुक्तरूपसेनक्शातैयारहुआहै।इससंबंधमेंकुछहीकिलोमीटरकाकामपूराहोनाबाकीहै।आर्थिकसंबंधोंपरज्ञवालीनेभारतकेसाथनेपालकेव्यापारअसंतुलनपरचिंताप्रकटकरतेहुएकहाकिनेपालकीअर्थव्यवस्था‘‘भारीव्यापारअसंतुलन’’कोसहननहींकरसकतीऔरउनकेदेशनेनिर्यातक्षमतामेंविस्तारकीमददकेलिएकुछकदमोंकीपेशकशकीहै।कोविड-19महामारीसेनिपटनेकेमुद्देपरउन्होंनेउम्मीदजताईकिनेपालकोभारतसेकोरोनावायरसकाटीकामिलेगा।