नाहन के कंडईवाला स्कूल में नई तकनीक से तैयार हो रही खाद

नाहन,जागरणसंवाददाता।केंद्रशासितप्रदेशचंडीगढ़ओरहरियाणासरकारकेकृषिएवंउद्यानविभागसेप्रेरणालेकरजिलासिरमौरकेनाहनविसकेराजकीयमाध्यमिकपाठशालाकंडईवालामेंठोसकचराप्रबंधनकोलेकरअनूठीपहलशुरूकीहै।इसतरहठोसकचराप्रबंधनशुरूकरनेवालाहिमाचलप्रदेशकापहलास्कूलबनगयाहै।यहांकचरानिपटानकेलिएनईतकनीकसेखादतैयारकीजारहीहै।इसकीविशेषताहैकिइसखादमेंनतोकीड़ेपड़रहेहैंऔरनहीइसमेंसेबदबूआरहीहै।इसकेलिएस्कूलकेप्रभारीप्रदीपशर्मानेअनूठेढंगसेटैंकतैयारकरवायाहै।वैसेतोकईस्कूलोंमेंजैवनिम्नकर्णीयकचरेयानीगलने-सडऩेवालीचीजोंसेखादतैयारकीजारहीहै।वहांतैयारखादमेंबदबूऔरकीड़ेकीभीसमस्यापैदाहोरहीहै।मगरकंडईवालास्कूलमेंतैयारखादसेनतोबदबूआरहीहैऔरनहीइसमेंकीड़ेपड़रहेहैं।

इसकेलिएस्कूलमेंऐरोबिक(आक्सीजनकेसाथ)तरीकेसेखादतैयारकरनेकेलिएयहांअनूठीतकनीकसेटैंकबनायाहै।खासबातयहहैकिटैंकनिर्माणमेंअनिम्नकर्णीयकचरेयानीनगलनेवालेकचरेकाइस्तेमालकियागयाहै।टैंककेतलमेंईंटोंकेसाथछिद्रवालीपीवीसीबिछाईगईहै।दिवारोंमेंपालीब्रिक्सऔरब्रिक्सकाइस्तेमालकियागयाहै।इसटैंककीखासियतयहहैकिटैंककेनीचे,ऊपर,सभीदिवारोंसेहवाकाप्रवाहहोरहाहै।इसटैंकमेंस्कूलकीरसोईसेरोजानानिकलनेवालीसब्जियोंकीछिलके,सूखेपत्ते,खराबहोचुकेकागज,गत्तेड़ालेजारहेहैं।जोचारमहीनेमेंखादकारूपलेरहेहैं।अबजबकिइसटैंककोइसतरीकेसेबनायागयाहैकिइसमेंसभीदिशाओंसेहवाकाप्रवाहहोरहाहै।ऐसेमेंइससेतैयारखादमेंनतोकीड़ेपड़रहेहैंऔरनहीबदबूआरहीहै।ऐसेमेंइसखादकेपौधोंमेंकमयाअधिकहोनेसेकोईखतरानहींहै।

पूर्वडीसीडा.आरकेपरूथीकरचुकेप्रशंसा

कंडईवालास्कूलकेप्रभारीएवंविज्ञानअध्यापकप्रदीपशर्माकेइसप्रयासकीज़िलासिरमौरकेपूर्वडीसीडा.आरकेपरूथीतकप्रशंसाकरचुकेहैं।उन्होंनेइसतकनीककाइस्तेमालसभीस्कूलोंमेंकरनेकीबातभीकहीथी।बहरहालउनकेतबादलेकेकारणऐसानहींहोपाया।

पक्ष:कंडईवालास्कूलकेप्रभारीप्रदीपशर्मानेबतायाकिठोसकचराप्रबंधनकायहतरीकाचंडीगढतथाहरियाणासरकारकेकृषिएवंउद्यानविभागमेंअपनेसहयोगियोंसेसीखा।गीलाकचराजैविकतरीकेसेडीकम्पोज(अपघटित)होतेहैं।स्कूलमेंऐरोबिकतरीकेसेखादतैयारकीजारहीहै।यहांचारफीटलंबा,तीनफीटचौड़ा,चारफीटऊंचाटैंकबनायाहै।इसमेंएकबारमें70से100किलोखादतैयारकीजारहीहै।