मेरठ में बोले डॉ. अनिल जोशी-पर्यावरण को बचाने के लिए हमें करना होगा जन आंदोलन

मेरठ,जागरणसंवाददाता।मनुष्यअपनेआसपासकीचीजोंकोखत्मकररहाहै।हमएनिमलहैंजोसबकुछखत्मकररहेंहैं।आनेवालीपीढ़ियोंकेलिएकुछनहींछोड़रहेंहैं।अगरखुदकोबचानाहैतोपर्यावरणकोलेकरजनआंदोलनकरनाहीहोगा।अपनीजिम्मेदारीकोखुदतयकरनाहोगाकिहमप्रकृतिकोक्यादेरहेहैं।यहकहनाहैपर्यावरणविदपद्मश्रीडॉ.अनिलजोशीका।जोएनएएसपीजीकालेजमेंआयोजितविश्वगौरेयादिवसपरआयोजितसंगोष्ठीमेंबोलरहेथे।

बड़ानुकसानभुगतनेकोरहेंतैयार

उन्होंनेकहाकिगौरेयाप्रकृतिमेंएकसंकेतहै।अगरवहहमारेबीचसेजारहीहैतोइसकामतलबहमभीइसकाबहुतबड़ानुकसानभुगतनेकेलिएतैयाररहें।गौरेयाकीड़ेखातीहै।जिससेहमेंसुरक्षाभीमिलताहै।केदारनाथसेलेकरकोरोनाकोलानेमेंकहींकहींइंसानकीअतिहीकारकबनी।प्रकृतिकादंडविधानजबदंडदेनेलगताहैतोदुनियाकीबड़ी-बड़ीशक्तियांसंभालनहींपातीहैं।

इन्‍होंनेभीकियासंबोधित

नदीपुत्ररमनत्यागीनेकहाकिहमप्रकृतिसेमुफ्तमेंहवा,पानीबहुतसीचीजेंलेतेहैंतोहमारीजिम्मेदारीहैकिहमभीकुछवापसकरें।नानकचन्दट्रस्टकेसचिवअमितशर्मा,पूर्वसचिवराजेन्द्रशर्मानेभीसंगोष्ठीकोसंबोधितकिया।संयोजकडा.देवेशचन्द्रशर्मानेगौरेयासंरक्षणअभियानकीजानकारीदी।संचालनडा.नवीनगुप्तानेकिया।कालेजकेप्राचार्यमनोजअग्रवालसहितअन्यरहे।गौरेयापरडा.विवेकत्यागीनेएकफ़िल्मभीदिखाई।