माओवादी का सेंदरा करनेवालों को छू भी नहीं पा रही पुलिस

दिलीपसिन्हा,गिरिडीह:पीरटांड़थानाक्षेत्रकायहअतिनक्सलप्रभावितपिपराटांड़गांवहै।इसमहीनेहिसाएवंप्रतिहिसाकायहगांवगवाहरहाहै।13जूनकीसुबहपुलिसकीमौजूदगीमेंनक्सलीसुरेशमरांडीकासेंदराकरनेएवंउसकेआठरिश्तेदारोंकोजिदाजलानेकीकोशिशकरनेकीघटनाकेकारणयहगांवपुलिसएवंप्रशासनकेनिशानेपररहाहै।

पुलिसएवंप्रशासनकीकार्यशैलीएकबारफिरसवालोंकेघेरेमेंहै।चारजूनकोइसगांवमेंजमीनविवादमेंहीरालालकिस्कूकीहत्याहुईथी।पीरटांड़पुलिसनेइसघटनाकोलेकरमाओवादीसुरेशमरांडीसमेतउसकेआधादर्जनभाई-भतीजोंकेखिलाफनामजदप्राथमिकीतोदर्जकरलीलेकिननौदिनोंतकभीकिसीकोगिरफ्तारनहींकरसकी।इसकानतीजाहुआकिहीरालालकेसमर्थनमेंपूरेगांवकेलोगोंनेदसवेंदिनसुरेशमरांडीकापुलिसकीमौजूदगीमेंसेंदराकरदिया।उसकेभाई-भतीजोंकोउनकेघरोंमेंबंदकरआगलगादी।मौकेपरपहुंचीपीरटांड़पुलिसनेफायरिगकरआठलोगोंकीजानबचाली।इसघटनाकोलेकरदसनामजदसमेतडेढ़सौअज्ञातलोगोंकेखिलाफप्राथमिकीदर्जकीगई।

पीरटांड़पुलिसनेप्राथमिकीतोदर्जकरली,लेकिनघटनाके16दिनबादभीएकभीआरोपितकोगिरफ्तारनहींकरसकी।गिरफ्तारकरनेकीबाततोछोड़िएप्रशासननेआरोपितोंकेसाथमृतकसुरेशमरांडीकेपरिवारकालिखितसमझौताकराया।इतनाहीनहीं,समझौतेमेंसुरेशमरांडीकीहत्याकेआरोपितोंसेहस्ताक्षरभीकराया।डुमरीकीएसडीएमप्रेमलतामुर्मूकीउपस्थितिमेंसमझौताकरायागया।यहसमझौताभीकामनहींआया।समझौताकेबावजूदसुरेशमरांडीएवंउसकेआठोंरिश्तेदारोंमेंसेएकभीपरिवारअपनेघरनहींलौटा।

दहशतकेकारणघरलौटनेकेबजायसभीअपने-अपनेरिश्तेदारोंकेघरचलेगए।सुरेशमरांडीकेपरिजनोंकेघरकेबजायरिश्तेदारोंकेयहांचलेजानेसेगांवकेलोगदहशतमेंहैं।कारण,सुरेशहार्डकोरमाओवादीथा।उसकेसेंदराकामाओवादीबदलालेसकतेहैं।इसआशंकासेखौफबढ़ाहै।प्रशासनभीइसखतरेसेअनजाननहींहै।यहीकारणहैकिसुरेशमरांडीकेपरिजनोंकेरिश्तेदारोंकेघरचलेजानेकेबावजूदपुलिसअभीभीवहांकैंपकररहीहै।जानकारकहतेहैंकिप्रशासननेयदिहीरालालकिस्कुकेहत्यारोपितोंकोगिरफ्तारकरजेलभेजदियाहोतातोयहगांवहिसाकीभेंटनहींचढ़ता।हीरालालकेबादसुरेशमरांडीकीहत्याकेमामलेमेंभीप्रशासनवहीभूलकररहाहै।आरोपितोंकोजेलभेजनेकेबादहीप्रशासनकोसमझौताकेलिएपहलकरनाचाहिएथा।आरोपितोंकीगिरफ्तारीनहींहोनेसेहीआक्रोशबढ़ाहै।

सुरेशमरांडीकेसेंदरामेंडिस्कोसमेतदसकेखिलाफनामजदप्राथमिकी

सुरेशमरांडीकासेंदराकरनेएवंउसकेआठरिश्तेदारोंकोजिदाजलानेकीकोशिशकरनेकेआरोपमेंकालीराममरांडीनेपीरटांड़थानामेंप्राथमिकीदर्जकराईथी।प्राथमिकीमेंमृतकहीरालालकिस्कुकेपुत्रअशोककिस्कु,डिस्कोकिस्कु,पान्होकिस्कु,बुकनकिस्कु,श्रीरामकिस्कू,संजयकिस्कु,सियोकिस्कु,अनिलकिस्कु,कारूकिस्कुएवंविनोदकिस्कुसमेतडेढ़सौअज्ञातलोगोंकोआरोपितकियाथा।इनआरोपितोंमेंसेकिसीकोभीपुलिसगिरफ्तारनहींकरसकीहै।

सुरेशसंगमिलकरहीरालालकीहत्याकरनेकीबातगणेशनेस्वीकारी

हीरालालकिस्कुकीहत्यातीनजूनकोमाओवादीसुरेशमरांडी,कालीराममरांडी,करमामरांडी,बबलूमरांडी,बिहारीमरांडीएवंगणेशमरांडीसमेतआधादर्जनलोगोंनेमिलकरकीथी।गणेशमरांडीनेजेलजानेकेपूर्वपीरटांड़पुलिसकेसमक्षस्वीकारोक्तिबयानमेंयहबातेंकहीहै।गणेशमरांडीनेपुलिसकोबतायाकिजमीनविवादमेंसुरेशमरांडीकेसाथहीरालालकिस्कुकीहाथापाईहोगईथी।इसकेबादहमछहलोगोंनेमिलकरपत्थरएवंकुदालसेकूचकरउसकीहत्याकरदी।हत्याकरनेकेबादहीरालालकेशवकोउठाकरनालेकेपासफेंकदिया।हत्याकरनेकेबादसुरेशमरांडीकेसाथसभीछहलोगभूमिगतहोगएथे।12जूनकीरातहमलोगघरलौटेथे।इसकेपहलेहीरालालकीमौतकाबदलालेनेकीयोजनाउसकेपरिवारसमेतगांवकेलोगोंनेबनालीथी।13जूनकीसुबहहीहमलोगोंकेघरोंपरहमलाबोलदिया।सुरेशमरांडीकेपीठपरतीनएवंसीनापरएकतीरमाराथाजिससेमौकेपरहीउसकीमौतहोगईथी।

पुलिसनेवहांपहुंचकरहमलोगोंकीजानबचाई।इसस्वीकारोक्तिबयानकेबादपीरटांड़पुलिसनेहीरालालकिस्कूकीहत्याकेआरोपमेंकामामरांडी,गणेशमरांडी,बिहारीमरांडीसमेतपांचलोगोंकोजेलभेजदिया।

एसडीएमकीउपस्थितिमेंप्रशासननेदोनोंपक्षोंमेंकरायाथासमझौैता

सुरेशमरांडीकीहत्याकरग्रामीणोंनेउसकेपरिजनोंकेघरोंमेंआगलगादीथी।मृतकमरांडीकेपरिजनघटनाकेबादघरछोड़करपुलिसकीअभिरक्षामेंपंचायतभवनमेंरहरहेथे।24जूनकोडुमरीकीएसडीएमप्रेमलतामुर्मूएवंपीरटांड़केसीओविनयप्रकाशतिग्गाकीमौजूदगीमेंप्रशासननेगांवमेंबैठककरदोनोंपक्षोंकेबीचसमझौताकरादियाथा।दोनोंपक्षोंनेमिलजुलकररहनेपरसहमतिजताईथी।साथहीसुरेशकेपरिजनभीगांवजाकरघरमेंरहनेकोतैयारहोगएथे।समझौतापत्रपरदोनोंपक्षोंकेलोगोंनेहस्ताक्षरकिएथे।इतनाहीनहीं,सुरेशमरांडीकेहत्यारोपितोंनेभीसमझौतापत्रपरहस्ताक्षरकिएहैं।