मां भारती की आजादी के लिए हंसते-हंसते फांसी के फंदे पर झूल गए थे वीर सपूत

संवादसूत्र,छातापुर(सुपौल):शहीददिवसकेमौकेपरप्रखंडकेविभिन्नसरकारीऔरनिजीविद्यालयोंमेंभारतकेमहानवीरसपूतशहीदएआजमभगतसिंह,सुखदेवऔरशिवरामराजगुरूकेशहादतकोयादकियागया।प्रखंडकेमाडलप्राथमिकविद्यालयकेवलामेंशिक्षकोंऔरछात्र-छात्राओंनेभगतसिंहकेचित्रपरपुष्पांजलिअर्पितकरउनसेप्रेरणालेनेकीबातदोहराई।प्रधानाध्यापकअमितकुमारनेकहाकिआजसेकरीब90सालपहलेभारतकेमहानक्रांतिकारीऔरस्वतंत्रतासेनानियोंमेंसेएकभगतसिंहकोब्रिटिशसरकारद्वाराफांसीदीगई।इसदिनभगतसिंहकेसाथसुखदेवथेऔरशिवरामराजगुरुनेभीभारतकीआजादीकेलिएहंसते-हंसतेफांसीकेफंदेकोचूमलिया।इनतीनोंलोगोंकीशहादतकोयादकरनेकेलिएहरसाल23मार्चकोशहीददिवसमनायाजाताहै।शिक्षकनरेशकुमारनिरालानेकहाकिभगतसिंहने23सालकीयुवाउम्रमेंहीमांभारतीकीआजादीकेलिएअपनेप्राणोंकीआहुतिदेदीथी।उनकेइसजज्बेकोदेखकरदेशकेयुवाओंकोभीदेशकीआजादीकेलिएलड़नेकीप्रेरणामिली।भगतसिंहनेभारतकेस्वतंत्रतासंग्राममेंमहत्वपूर्णभूमिकानिभाई।भगतसिंहकेमाता-पितानेजबउनपरशादीकादबावबनाया,तोवहघरछोड़करकानपुरकेलिएनिकलपड़े।उन्होंनेकहाथाकिअगरउन्होंनेगुलामभारतमेंशादीकी,तोउनकीदुल्हनकीमौतहोगी।इसतरहआगेचलकरउन्होंनेहिदुस्तानसोशलिस्टरिपब्लिकनएसोसिएशनकाहाथथामलिया।शिक्षकनिरंजनकुमारऔरमुहम्मदअरबाजआलमनेकहाकिभगतसिंहजलियांवालाबागहत्याकांडसेइतनेपरेशानथेकिउन्होंनेघटनास्थलकादौराकरनेकेलिएस्कूलतकबंककियाथा।उन्होंनेकहाकिभगतसिंहनेसुखदेवकेसाथमिलकरलालालाजपतरायकीमौतकाबदलालेनेकीयोजनाबनाईऔरलाहौरमेंपुलिसअधीक्षकजेम्सस्काटकोमारनेकीसाजिशरची।हालांकि,गलतपहचानकीवजहसेसहायकपुलिसअधीक्षकजानसान्डर्सकोगोलीमारदीगईथी।मौकेपरशिक्षिकानीतूकुमारी,स्तुतिकुमारी,बबीताकुमारी,रौशनकुमार,वंदनाकुमारी,राजेशकुमार,संतोषकुमार,श्वेताकुमारी,नितिनकुमारसहितदर्जनोंछात्र-छात्राएंउपस्थितथे।