लंगटा बाबा कॉलेज में मनाई गई गीता जयंती

जमुआ(गिरिडीह):शुक्रवारकोलंगटाबाबाकॉलेजमिर्जागंजमेंगीताजयंतीमनाईगई।वक्ताओंनेकहाकिगीताआजभीउतनीहीप्रासंगिकहैजितनापहलेरहीहै।गीताजीवनकासारहै।भागवतगीताकाविषयहीऐसाहैकिउसकासमयकेपरिप्रेक्ष्यसेकुछभीवास्तानहींहै।वहकालजयीअर्थातशाश्वतहैऔरउसकीकीर्तिकभीसमयकेसाथफीकीनहींपड़नेवालीहैक्योंकिमनुष्ययाकिसीप्राणीकीआत्मायाचेतनासमययाकालसेपरेहै।भागवतगीतामेंआत्माकीबातकीगईहैइसलिएभागवतगीताघोरसंकटऔरसंघर्षकेसमय,जबमनुष्यकोचहूंओरगहनअंधकारदिखाईदेतोव्यक्तिहताश,निराशऔरकिकर्तव्यविमूढ़होजाएं।जैसाकिमहाभारतयुद्धकेदौरानकुरूक्षेत्रकेमैदानमेंअर्जुनकेसम्मुखहुआ।ऐसीविकटपरिस्थितियोंमेंगीतामनुष्यकामार्गप्रशस्तकरतीरहीहैऔरसदाकरतीरहेगी।बसमनुष्यकोभगवानकेप्रतिश्रद्धावानहोकरऔरनिष्कामभावसेअनाशक्तहोकरकर्मकरतेहुएऔरफलकीचितानकरकेअर्जुनकीतरहजोहरकर्मकोईश्वरकेनिमित्तकरेगा,परिणामसदाउसकेपक्षमेंहोगा।प्राणियोंकीआत्मायाचेतनानश्वरहैइसलिएगीताकामहात्मयासंदर्भसदाबनारहेगा।कार्यक्रमकोश्रमअधीक्षकवासुदेवपांडेय,समाजसेवीविजयकुमारचौरसिया,नारायणसाव,सुधीरकुमारपाठक,प्रदीपकुमारपांडेय,गौरीशंकरपांडेय,योगेंद्रनाथझा,आशीषकुमारइत्यादिनेसंबोधितकिया।कार्यक्रमकासंचालनप्रो.अवधेशपांडेयनेकिया।कार्यक्रममेंमुख्यरूपसेजयप्रकाशसिंह,स्वातिकुमारी,राहुलकुमार,विक्रमकुमार,अभिषेककुमारगुप्ता,बुचूलालमिश्र,शिवानीकुमारी,श्रुतिकुमारी,रियाकुमारी,स्मृतिकुमारी,आशिताकुमारी,रितेशकुमारगुप्तासमेतदर्जनोंलोगोंकीउपस्थितिरही।कार्यक्रमकेअंतमेंविद्यार्थियोंकेबीचगीतापुस्तककावितरणकियागया।