करियर काउंसलर डा. मोनिका ने दिए सफलता के मंत्र

फतेहाबाद:यदियुवाओंकोसहीसमयपरसहीपरामर्शउपलब्धहोजाएतोनसिर्फउन्हेंअपनीरूचिकेक्षेत्रसेसंबंधितकोर्सऔरकरियरचुननेमेंसमुचितमददमिलजातीहै,बल्किइससेउन्हेंआत्मविश्वासऔरउत्साहसेआगेबढ़नेमेंभीमददमिलतीहै।यहबातवरिष्ठकरियरकाउंसलरडा.मोनिकानेमाउंटलिट्राजीस्कूलमेंआयोजितकरियरकाउंसलिगकार्यक्रममेंविद्यार्थियोंकोसंबोधितकरतेहुएकही।

डा.मोनिकानेविद्यार्थियोंकोकहाकिवैसेतोमानाजाताहैकिजबजागोतभीसवेरा,लेकिनअगरएकउपयुक्तसमयकीबातकरेंतोआपकोअपनेकरियरकीतैयारीकीशुरुआतनौवीं,दसवींसेकरलेनीचाहिए।कईअभिभावकवछात्रोंकायहभीमाननाहोताहैकिइतनीकमउम्रमेंकरियरकोलेकरबच्चोंकाकोईडिसीजनआगेचलकरपरेशानीमेंनडालदें,जबकिकरियरकेचुनावकासहीऔरसबसेआदर्शसमययहीहैक्योंकिएकसुनिश्चितगोलतकपहुंचनेमेंभीकाफीसमयलगजाताहै।स्कूलप्राचार्याअरविदरपालकौरनेविद्यार्थियोंकोसंबोधितकरतेहुएकहाकिमाउंटलिट्राजीस्कूलमें11वींकेदाखिलेआरंभहोचुकेहैंऔरआनेवालेसमयमेंकक्षा11वींकेविद्यार्थियोंकेलिएऐसेफायदेमंदकार्यक्रमोंकासमय-समयपरआयोजनकियाजाएगा,जोबच्चोंकेलिएअत्यंतलाभकारीहोगा।अध्यापकराष्ट्रनिर्माताहोताहै:सुभाषभाम्भू

संवादसूत्र,भट्टूकलां:एकआदर्शअध्यापककामहत्वनकेवलशिक्षाकेक्षेत्रमेंहैवरनाउसेराष्ट्रनिर्माताभीकहाजाताहै।यहबातराजकीयवरिष्ठमाध्यमिकविद्यालयशेखुपुरदड़ौलीकेप्राचार्यसुभाषचंद्रभांभूनेविद्यालयकेपूर्वअध्यापकमदनगोपालआर्यकेसम्मानमेंआयोजितसमारोहमेंउपस्थितजनोंकोसंबोधितकरतेहुएकही।उन्होंनेकहाकिकिसीभीदेश-कालकीशिक्षा-पद्धतिमेंसर्वाधिकमहत्वपूर्णस्थानशिक्षककाहोताहै।यहसंपूर्णविश्वअपनेउनसभीशिक्षकोंकाऋणीहै,जिन्होंनेज्ञानकेआधारपरसंसारकेआध्यात्मिकएवंभौतिकस्वरूपकानिर्माणकियाहै।आर्यकेपौनेतीनवर्षकेइसविद्यालयकेकार्यकालकीप्रशंसाकरतेहुएउन्होंनेबतायाकिइन्होंनेशिक्षाकेक्षेत्रमेंउत्कृष्टकार्यकरनेकेसाथ-साथविद्यालयकेअन्यकार्योंयथाफुटबालमैदानकानामकरणशहीदकैप्टनविक्रमबत्राकेनामपरकरवाना,विद्यालयद्वारसेफुटबालमैदानतकइंटरलाकसड़कबनवानातथाविद्यालयकीकंपोजिटबिल्डिगमंजूरकरवानाआदिकार्योंमेंभीअतुलनीययोगदानदियाहै।उन्होंनेकहाकिमैंइनकेविद्यालयकेप्रतिपूर्णसमर्पितभावकोजीवनभरनहींभूलसकता।मौलिकमुख्याध्यापकघनश्यामदासवमुख्यशिक्षकओमप्रकाशनेभीआर्यकेकार्यकालपरप्रकाशडाला।ब्लॉकसमितिसदस्यहजारीरामअस्तुवालएवंरिटायर्डसूबेदारसुरजीतसिंहसहारणनेसंबोधितकिया।इसअवसरपररमेशकुमारराठौर,हुकमारामफौजी,कृष्णकुमारभदरेचा,रविकुमारनांगल,सोनियारानी,भतेरीदेवी,सोनूरानी,हजारीलाल,सुरजीतसहारण,अनिलदहिया,जुक्टरसिंह,जगदीशप्रसाद,एसएमसीप्रधानराजपाल,गोलूराम,सज्जनकुमारखत्री,घनश्यामदास,ओमप्रकाश,अशोककुमार,सेंटीकुमार,श्रवणसिहाग,कालूराम,कृष्णहुड्डा,वकीलकुमारआदिमौजूदथे।