खंडहर स्कूल में करते हैं बच्चे पढ़ाई

संवादसहयोगी,बसोहली:तहसीलमेंशिक्षाव्यवस्थाकिसप्रकारऔरकिसक्वालिटीसेमिलरहीहै।इसकाजीताजागताउदाहरणप्रेहतापंचायतकेगांवनगरोटाकेमिडिलग‌र्ल्सस्कूलमेंदेखनेकोमिलरहाहै।यहांपरनौनिहालजानजोखिममेंडालकरपढ़ाईकररहेहैं।सरकारीस्कूलोंमेंएकतोगरीबऔरकमआयवालेलोगबच्चोंकोपढ़नेकेलिएभेजतेहैं,वहींसरकारीस्कूलोंकीहालततहसीलमेंबदसेबदतरहोतीजारहीहै।मिडिलस्कूलचंदकमरोंतकसीमितरहगयाहै।पुरानीबिल्डिंगपहलेसेहीखंडहरबनचुकीहैजोनईबिल्डिंगबनाईगईउसकेकेवलदोहीकमरोंकीहालतथोड़ीसीठीकहै।अन्यकमरोंकीदीवारें,छतकभीढहसकतीहैं।

क्याकहतेहैंस्थानीयलोग

स्कूलकेबारेमेंनगरोटागांवकेनिवासी,अरविंदगुप्ता,नरेशवर्मा,केशववर्मा,कैप्टनदेसराज,मसुरामएवंबच्चोंनेबतायाकिस्कूलमेंनतोखेलनेकामैदानहै।गांवकेनिवासियोंनेबतायाकिस्कूलकीदशाखराबहोनेकेकारणबच्चोंकीसंख्यामेंकमीआरहीहैवर्नास्कूलमेंस्टाफअच्छाहैऔरपढ़ाईभीसहीहोरहीहै।उन्होंनेशिक्षाविभागपरआरोपलगायाकिएकओरसर्वशिक्षाअभियानचलाएजारहेहैंवहींसरकारीस्कूलोंमेंबच्चेजानपरखेलकरपढ़ाईकरनेकोमजबूरहैं।उन्होंनेसरकारसेस्कूलकीदशाकोसुधारनेकीमांगकीहै।

इसबाबतडिप्टीसीईओप्रेमसिंहनेबतायाकिखस्ताहालस्कूलोंकीमरम्मतएवंअन्यप्रकारकेकार्योकीसूचीपहलेसेहीउच्चअधिकारियोंकोभेजदीगईहै।फंडकीउपलब्धतापरस्कूलकीहालतकोठीककरदियाजाएगा।