जिले में बिना प्रस्वीकृति के ही चल रहे हैं दर्जनों निजी स्कूल

समस्तीपुर।जिलेमेंबहुतसेनिजीप्रारंभिकस्कूलऐसेहैं,जोबिनास्वीकृतिकेचलरहेहैं।कईस्कूलदूसरेस्कूलकीमान्यतापरचलतेहैं।वहांकिसीमानककापालननहींकियाजाता।ऐसेनिजीप्रारंभिकस्कूलोंकोलेकरशिक्षाविभागनेनिर्देशजारीकिएहैं।अबबिनास्वीकृतिआठवींतककेस्कूलनहींचलसकेंगे।साथहीजिनस्कूलोंकोऑफलाइनआवेदनपरस्वीकृतिमिलीहै,उन्हेंभीपोर्टलपरडाक्यूमेंटअपलोडकरनाहोगा।जिलास्तरपरगठितत्रिस्तरीयसमितिस्कूलोंकेआवेदनपरस्वीकृतिदेतीहै।वहस्थलजांचनेकेसाथवहांसुविधाएंदेखतीहै।

बतादेंकिजिलेमेंएकहजारसेअधिकनिजीस्कूलहैं,लेकिनविभागसेमात्र551विद्यालयोंकोहीप्रस्वीकृतिप्राप्तहै।ऐसेमेंकईस्कूलबिनाविभागीयमापदंडकोपूराकिएधड़ल्लेसेसंचालितकिएजारहेहैं।गौरकरनेवालीबातहैकिविभागीयमापदंडकोपूराकरसंचालितहोरहेनिजीविद्यालयोंकोसर्वशिक्षाअभियानकार्यालयसेप्रस्वीकृतिदीजातीहै।आवेदनआनेकेबादनिजीविद्यालयप्रस्वीकृतिसमितिकीबैठकहोतीहै।इसमेंजिनकेकागजातसहीहोतेहैं।उन्हेंप्रस्वीकृतिकाआदेशदियाजाताहै।डीईओकीअध्यक्षतामेंसमितिहोतीहै।इसमेंडीएमद्वाराअनुशंसितएकपदाधिकारी,डीपीओसहितअन्यकोशामिलकियाजाताहै।पहलेसेदीगईप्रस्वीकृतिमेंकईस्कूलमापदंडकोनहींपूराकरनेवालेशामिल

पहलेसेप्रस्वीकृतिप्राप्तप्राइवेटस्कूलधरातलपरचलरहेहैंयाकागजोंमेंसिमटकररहगएहैं।उनकेद्वाराविभागीयमापदंडकेअनुसारप्रस्तुतकिएगएकागजातठीकहैयानहीं।स्कूलकीआधारभूतसंरचना,शिक्षकवछात्रोंकीसंख्या,पठन-पाठनसेसंबंधितसंसाधनोंकीक्यास्थितिहै।इसकीजांचभीहोगी।सूत्रोंसेमिलीजानकारीकेअनुसारप्रस्वीकृतिप्राप्तस्कूलोंमेंकईऐसेस्कूलहैंजिनकाअपनाभवननहींहै।नस्कूलपरिसरमेंखेलमैदानहै।नपक्काछतहै।विभागअगरसहीतरीकेसेजांचकराएतोकईस्कूलोंकीप्रस्वीकृतिरदकरनीपड़सकतीहै।वर्जन

बच्चोंकोमुफ्तएवंअनिवार्यशिक्षाकाअधिकारअधिनियमकेतहतजिलेकेसभीनिजीप्रारंभिकविद्यालयोंकोअनिवार्यरूपसेप्रस्वीकृतिप्राप्तकरनाहै।प्रारंभिकनिजीविद्यालयोंकीप्रस्वीकृतिजिलास्तरपरगठितत्रिसदस्यीयसमितिकेद्वारानिर्धारितमापदंडकेतहतदीजातीहै।प्रस्वीकृतिप्रदानकरनेकीप्रक्रियाकोसुविधाजनक,पारदर्शीएवंसुगमबनानेकेउद्देश्यसेइसव्यवस्थाकोऑनलाइनकिएजानेकेलिएपोर्टलविकसितकियागयाहै।31दिसंबरकेबादबिनाप्रस्वीकृतिकेकिसीभीविद्यालयकासंचालननहींकियाजासकेगा।

जिलाकार्यक्रमपदाधिकारी,(समग्रशिक्षाअभियान)।