जीवन के अनुभवों के बारे में दे रही जानकारी

दयानंदतनेजा,सीवन:सीवननिवासी65वर्षीयममतावधवाइनदिनोंअपनेपरिवारकेसाथइसकोविड-19केदौरानलगेलॉकडाउनमेंमिलबैठकरपरिवारसेबीतेजीवनकेअनुभवसांझेकररहीहैं।ममतावधवानेअपनेजीवनमेंबहुतउतारचढ़ावदेखेहैं।वहबच्चोंकोअपनेजीवनकेअनुभवोंकेबारेमेंबतातीहैं।ममतावधवाबतातीहैंकिउनकेपतिमदनलालवधवासीवनमार्केटकमेटीकेचेयरमैनरहेहैं।कोरोनासंकटकेबारेमेंबतातेहुएकहाकिजीवनमेंउतारचढ़ावसंकटआतेरहतेहैइनकेबिनाजीवननीरसहोताहै।संकटसेघबरानानहींमुकाबलाकरनाहोताहै,बल्किउसकामुकाबलाकरनाहोताहै।वहअपनेबच्चोंकोपुरानेसमयमेंखेलेजानेवालेखेलोंकेबारेमेंबतातीहैं।परिवारमेंउनकेपुत्रअधिवक्तागौरववधवाजोकैथलकोर्टमेंवकालतकरतेहैं।पुत्रवधुसपनावधवाकम्प्यूटरऑपरेटरहैं।उनकीदोपोतीनंदियावाधवावगोरिकाहैंजोउनसेकहानीसुननेकोहमेशातैयाररहतीहैं।उनकेएकपुत्रसौरवऔरपुत्रवधुअंबिकाहैं।जोपोतेदिविजकेसाथअमेरिकामेंरहतेहैं।वहलगातारउनसेभीबातकरतीरहतीहैंक्योंकिअमेरिकामेंकोरोनाकाप्रकोपअधिकहैइसकारणसेवहचितितरहतीहैं।पोतीनंदियाबीतेदिनोंकाबातोंबातोंमेंअनुभवलेतीरहतीहै।