जीविका से जुड़ी महिलाएं आर्थिक रूप से बन रहीं आत्मनिर्भर

मधेपुरा।जीविकाकीओरमहिलाओंकोआर्थिकरूपसेआत्मनिर्भरबनानेकोलेकरलगातारप्रयासकियाजारहाहै।महिलाओंकोकौशलप्रशिक्षणदेकरअपनेघरमेंरोजगारउपलब्धकरानाजीविकाकामुख्यउद्देश्यहै।येबातेंजीविकाकेजिलापरियोजनाप्रबंधकअनोजपोद्दारनेराजलक्ष्मीजीविकामहिलामास्कउत्पादनसहविपणनकेंद्रगम्हरियाकाशुभारंभकरतेहुएकही।मौकेपरजिलापरियोजनाप्रबंधकनेकहाकिमास्कबनानेकेकार्यमेंजुटीजीविकादीदीतेजीसेकार्यकरदिएगएलक्ष्यकोपूराकरें।उन्होंनेमास्कनिर्माणसेजुड़ेविभिन्नपहलुओंपरविस्तारसेचर्चाकी।वितप्रबन्धकरजनीशकुमारनेमास्कनिर्माणसेप्राप्तहोनेवालेआयकेबारेमेंविस्तारसेजानकारीदी।प्रखंडपरियोजनाप्रबंधकमुकुंदकुमारसिंहनेकहाकिगम्हरियामें5600मास्कनिर्माणकियाजाचुकाहैऔरतथा16हजारकेआसपासअभीऔरआर्डरप्राप्तहुआहै।जिन्हेंअगलेएकसप्ताहमेंपूराकियाजाना।मास्ककेकीमत15रुपयेप्रतिमास्करखागयाहै।क्षेत्रीयसमन्वयकविनयप्रकाशकेद्वाराउत्पादनकेंद्रकेबारेविस्तारसेजानकारीदी।मौकेपरसतीशकुमार,सुशीलकुमार,मिथिलेशकुमार,अमरेशकुमार,रंजनकुमारी,औरअमनकुमारसहितकईमौजूदथे।