इमरजेंसी ने ली थोड़ी राहत, ज्यादातर बेड हुए खाली

जासं,मैनपुरी:ढाईमहीनेसेजारीबुखारकाकहरअबथोड़ाथमनेलगाहै।जिलाअस्पतालकीइमरजेंसीमेंभीमरीजोंकीभीड़घटीहै।लगातारतीसरेदिनशोर-शराबेसेराहतदिखी।स्वास्थ्यअधिकारियोंनेअभीकुछदिनसहयोगकीअपीलकीहै।

अगस्तसेजिलेमेंबुखारऔरडेंगूकाप्रकोपजारीहै।अबतकजिलेमें250सेज्यादालोगोंकीबुखारकीचपेटमेंआनेसेमौतहोचुकीहै।बड़ीसंख्यामेंलोगअबभीबीमारहैं।जिलाअस्पतालकीओपीडीऔरइमरजेंसीमेंसबसेज्यादामरीजपहुंचरहेथे,लेकिनतीनदिनसेथोड़ीराहतनजरआरहीहै।

मंगलवारकोभीइमरजेंसीमेंराहतमिलनेकेबादमरीजोंकोइनडोरवार्डमेंशिफ्टकरादियागया।सुबहकीपालीमेंइमरजेंसीकेज्यादातरबिस्तरलगभगपूरीतरहसेखालीहोगएथे।दिनभरमेंमरीजतोपहुंचे,लेकिनरोजकीतरहभीड़औरशोर-शराबानहींदिखा।सीएमएसडा.अरविदकुमारगर्गकाकहनाहैकियहराहतकीबातहैकिमरीजोंकीसेहतमेंतेजीसेसुधारहोरहाहै।लोगोंसेबार-बारअपीलकीजारहीहैकिवेझोलाछापकेपासनजाकरजिलाअस्पतालयासीएचसीपरउपचारकराएं।

थोडे़दिनऔरकरलेंमशक्कत

सीएमओडा.पीपीसिंहकाकहनाहैकिसभीचिकित्सकऔरनर्सिंगस्टाफकुछदिनऔरमशक्कतकरलें।सीएचसीऔरपीएचसीपरजिनकीड्यूटीलगाईगईहै,वेमरीजोंकोबेहतरउपचारदें।जिलाअस्पतालमेंभीडाक्टरऔरनर्सिंगस्टाफकेसाथफार्मासिस्टकीसंख्याकोबढ़ायागयाहै।तीमारदारोंसेअपीलहैकिवेसहयोगकरें।