हादसों में न जाए जान, ट्रामा सेंटर का हो रहा इंतजाम

गोंडा:सड़कहादसोंमेंहोरहीमौतोंकोदेखतेहुएस्वास्थ्यविभागनेअबप्रबंधोंकोलेकरतैयारीकीहै।गोंडा,रायबरेली,सिद्धार्थनगर,संतकबीरनगरसहित13जिलोंमेंट्रामासेंटरकीस्थापनाकोलेकररणनीतिबनाईगईहै।दरअसल,यहांपरअस्पतालपरिसरमेंपर्याप्तजमीननहोनेकेकारणअबजनपदमुख्यालयकेकरीबराष्ट्रीय-राजमार्गपरस्थितसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रोंपरट्रामासेंटरकानिर्माणकरायाजाएगा।इसकोलेकरजमीनकीउपलब्धताकोलेकरअधिकारीमंथनकरनेमेंजुटेहुएहैं।

सड़कहादसोंमेंघायलहोनेवालोंकोजिलाअस्पताललेकरआनापड़ताहै।यहांपरन्यूरोसर्जरीकीसुविधाहैनहीट्रामासेंटरकाप्रबंध।ऐसेमेंमरीजोंकोमुश्किलोंकासामनाकरनापड़ताहै।कईबारट्रामासेंटरकीमांगकीगईलेकिन,हालातसुधरनहींरहेहैं।ऐसेमेंजबट्रामासेंटरकीस्थापनाकेलिएप्रक्रियाशुरूकीगईतोगोंडासमेत13अन्यजिलोंमेंजिलाअस्पतालमेंजगहहीनहींमिली।ऐसेमेंअबहाईवेकिनारेस्थितसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रोंपरट्रामासेंटरबनानेकीरणनीतितैयारकीगईहै।इसकेलिएस्वास्थ्यअधिकारियोंसेरिपोर्टमांगीगईहै।अधीक्षणअभियंताराकेशत्रिपाठीनेसीएमओकोपत्रभेजकरजनपदमुख्यालयकेकरीबराष्ट्रीय-राजमार्गकेसमीपस्थितसामुदायिकस्वास्थ्यकेंद्रोंपर1200वर्गमीटरभूमिखोजनेकोकहाहै।इसकेलिएएकसप्ताहकेभीतरसाइटप्लानदेनेकोकहागयाहै।इससेपहलेस्वास्थ्यविभागनेरूपईडीहप्राथमिकस्वास्थ्यकेंद्रकोट्रामासेंटरबनानेकाप्रस्तावदियाहै।हालांकिअभीइसकीस्वीकृतिनहींमिलीहै।सीएमओडॉ.अजयसिंहगौतमनेबतायाकिपत्रमिलाहै,अधीक्षकोंसेजानकारीकीजारहीहै।