ए ग्रेड हरियाणा केंद्रीय विवि में मात्र दो प्रोफेसर

जागरणसंवाददाता,महेंद्रगढ़:नेकद्वाराएग्रेडप्राप्तहरियाणाकेंद्रीयविश्वविद्यालयमेंमूलभूतसुविधाओंकाघोरअभावहै।यहांशिक्षकोंकेस्वीकृतपदोंमेंसे77प्रतिशतरिक्तपड़ेहैं।प्रोफेसरतोपूरेविश्वविद्यालयमेंमात्रदोहीहैं।अधिकतरशिक्षकोंकेपदरिक्तपड़ेहोनेसेविद्यार्थियोंकीपढ़ाईबाधितहोरहीहै।बिनाशिक्षकोंऔरप्रयोगशालाओंकेयहांयुवाओंकेभविष्यकेसाथखिलवाड़होरहाहै।

शिक्षाकेक्षेत्रमेंविकासकी²ष्टिकेलिएकेंद्रसरकारनेवर्ष2009में14केंद्रीयविश्वविद्यालयोंकीस्थापनाकीथी।हरियाणामेंस्थितकेंद्रीयविश्वविद्यालयकीस्थापनाजिलेकेगांवजाट-पालीमेंहुई।बतायागयाथाकिलगभग480एकड़मेंविश्वविद्यालयकीआधरभूतसंरचनातैयारकीजाएगी,जिसमेंदेश-विदेशकेविद्यार्थीअपनास्वर्णिमभविष्यतैयारकरेंगे।लेकिनस्थापनाकेसमयसेहीविश्वविद्यालयमूलभूतसुविधाओंकीकमीझेलताआरहाहै।वर्तमानसमयमेंविश्वविद्यालयमें30विभागोंमें57कोर्सचलरहेहैं।इसमेंलभगभदोहजारविद्यार्थीशिक्षाग्रहणकररहेहैं।शुरुआतीछहवर्षोंमेंस्थाईकुलपतिनहींहोनेकीवजहसेविश्वविद्यालयमेंआधारभूतसंरचनाकाकामधीमीगतिसेचला।वर्ष2015मेंस्थाईकुलपतिआनेकेबादसेइसमेंकुछतेजीआई,लेकिनअपेक्षाकेअनुरूपनहीं।

वर्ष2009मेंस्थापितहुएविश्वविद्यालयमेंआजतकशिक्षकोंकीपूरीभर्तीनहींहुईहै।स्वीकृतपदोंमेंसेप्रोफेसरोंकेलगभग80प्रतिशतपदखालीहैं।विद्यार्थियोंकीशिक्षाकोपूराकरवानेकेलिएठेकेपरशिक्षकोंकीनियुक्तिकीगईहै।प्रोफेसर,एसोसिएटप्रोफेसरकीजगहठेकेपरकार्यरतअसिस्टेंटप्रोफेसरकामसंभालरहेहैं।दोवर्षपहलेयुवाइंजीनियरतैयारकरनेकेलिएबिनाप्रयोगशाला,बिनास्थाईशिक्षकोंऔरबिनाभवनकेहीचारबीटेककोर्सशुरूकरदिए।चारसमेस्टरबीतजानेकेबादभीयेविद्यार्थीप्रयोगशालाकेलिएतरसरहेहैं।225स्वीकृतपदोंमेंसे51पदोंपरहैस्थाईनियुक्ति

केंद्रीयविश्वविद्यालयहरियाणामेंशिक्षकोंके225पदस्वीकृतहैंजिनमें30प्रोफेसर,62एसोसिएटप्रोफेसरव133असिस्टेंटप्रोफेसरकेहैं।लेकिनवर्तमानमेंइनमेंसेकेवल51शिक्षकहीस्थाईपदोंपरकार्यरतहैं।इनमेंमात्रदोप्रोफेसर,6एसोसिएटप्रोफेसरऔर45असिस्टेंटप्रोफेसरहैं।