दिल्ली में निजी स्कूलों ने 40 फीसद तक बढ़ाया परिवहन शुल्क, अभिभावकों का बिगड़ा बजट

नईदिल्ली,जागरणसंवाददाता।राजधानीमेंएकअप्रैलसेसभीस्कूलोंमेंशैक्षणिकसत्र2022-23कीशुरूआतआफलाइनमाध्यमसेहोगईहै।दोसालकेबादएकदमसेआफलाइनमाध्यमसेस्कूलखुलनेसेअभिभावकोंकीजेबपरयूनिफार्मऔरकिताबोंकेबादअबपरिवहनशुल्ककाबहुतअसरपड़रहाहै।निजीस्कूलोंनेपरिवहनशुल्ककोइससत्रसे35से40प्रतिशततकबढ़ादियाहै।जिससेअभिभावकोंकाबजटतकबिगड़गयाहै।

स्कूलोंकेप्रधानाचार्योंकाकहनाहैकिदिल्लीपरिवहननिगम(डीटीसी)कीबसोंकीसुविधाबंदहोनेकेबादउन्हेंबाहरसेनिजीबसववैनसंचालकोंकीबससुविधालेनीपड़रहीहै।उन्होंनेकहाकिबसोंकेदामबढ़नेकोलेकरवोकुछनहींकरसकतेहैं।क्योंकियेदामडीजलकेदामबढ़नेकेबादहीबढ़ाएगएहैं।उनकेमुताबिकअगरसरकारडीटीसीकीसुविधाफिरसेशुरूकरदेतीहैतोपरिवहनशुल्कमेंजरूरअंतरआएगाऔरअभिभावकोंकोजेबपरभीइतनाबोझनहींपड़ेगा।

होलीग्रुपआफस्कूल्सकेचेयरमैनअजयअरोड़ानेबतायाकिउनकेस्कूलमेंपहले25सेबसेचलतीथी।जिसमें15बसेंडीटीसीकीऔर10स्कूलकीतरफसेउपलब्धकराईगईनिजीबसेथी।लेकिनमौजूदासत्रसेपांचसेछहबसेचलरहीहै।येसभीनिजीसंचालककीबसेंहैं।उन्होंनेकहाकिस्कूलबसोंकीसंख्याघटनेसेरूटकीसमस्याआरहीहै।पहलेकेवर्षोंमेंजोरूटतयकियाथावोपूराबदलनापड़ाहै।चूंकिपहलेहररूटकीअलगबसेथी,जिससेबच्चेसमयपरघरभीपहुंचजातेहैं।लेकिनअबबसोंकीसंख्याघटनेसेहमेंतीनसेचाररूटकेलिएएकबसचलानीपड़रहीहै।इससेबच्चोंकोघरपहुंचनेमेंभीपहलेकेमुकाबलेअधिकसमयलगरहाहै।सरकारअगरडीटीसीकीसुविधाशुरूकरदेतोयेसमस्याखत्महोजाएगी।उन्होंनेकहाकिपहलेछात्रोंकेप्रतिमाहदोहजाररुपयेपरिवहनशुल्ककेलिएजातेथे।लेकिनअबडीजलकेदामबढ़नेकेबादयेप्रतिमाहतीनहजाररुपयेलिएजारहेहैं।

वहीं,दिल्लीअभिभावकसंघकीअध्यक्षअपराजितागौतमनेकहाकिराजधानीकेअधिकतरनिजीस्कूलपरिवहनशुल्ककेनामपरमोटीरकमवसूलरहेहैं।स्कूलोंनेतीनसेचारगुनादामबढ़ायाहै।जिनछात्रोंकेदोसेतीनबच्चेपढ़तेहैंउनकापूराबजटबिगड़गयाहै।उन्होंनेकहाकिकईस्कूलमेंअभिभावकोंनेपरिवहनशुल्कजमातककरादियालेकिनबच्चेकोस्कूलबसनसमयपरलेनेआतीहैऔरनछोडने।वहीं,स्कूलोंनेबसोंकीसंख्याभीघटाईहै।एकबसकोबच्चोकोस्कूलसेघरछोड़नेकेलिएदोसेतीनराउंडलगानेपड़रहेहैं।जिसकारणदूसरेऔरतीसरेराउंडकेबच्चोंकोदोपहरकेवक्ततेजधूपमेंपार्कमेंबैठकरबसकाइंतजारकरनापड़ताहै।

वहीं,द्वारकास्थितसेंटथामसस्कूलकेअभिभावकनेबतायाकिउनकेदोबच्चेइसस्कूलमेंपढ़तेहैं।कोरोनासेपहलेस्कूलपरिवहनशुल्ककेतीनहजाररूपयेवसूलताथा।लेकिनअबयेदामबढ़करचारहजाररुपयेहोगएहैं।उन्होंनेकहाकिवोयूनिफार्म,ड्रेसऔरट्यूशनफीसबढ़नेकेबादअबआठहजाररुपयेकेवलपरिवहनकेनामदेनेकीक्षमतामेंनहींहै।ऐसेमेंवोफिलहालखुदहीबच्चोंकोस्कूललेनेऔरछो़ड़नेजातेहैं।

दोसेतीनहजार-तीनसेचारहजार

पुस्तकोंकाखर्च