दिल्ली में होगा 8 लाख निर्माण श्रमिकों का पंजीकरण, सिसोदिया ने शुरू किया मेगा अभियान

नईदिल्ली,राज्यब्यूरो।दिल्लीसरकारश्रमिकोंकेकल्याणकेलिएपंजीकरणअभियानकीशुरुआतकररहीहै।इसअभियानकेजरियेदिल्लीकेश्रमिकोंकोसरकारकीविभिन्नयोजनाओंसेजोड़ाजाएगा।उपमुख्यमंत्रीवश्रममंत्रीमनीषसिसोदियानेमेगाअभियानकीघोषणासोमवारकोडिजिटलपत्रकारवार्ताकेदौरानकी।उपमुख्यमंत्रीनेबतायाकिदिल्लीमेंलगभग10लाखनिर्माणश्रमिकहैं,1.31लाखदिल्लीनिर्माणश्रमिककल्याणबोर्डमेंपंजीकृतहैऔरलगभग80हजारश्रमिकोंकेपंजीकरणकीप्रक्रियाजारीहै।

इसअभियानसेलगभग8लाखसेअधिकनिर्माणश्रमिकोंकापंजीकरणकियाजाएगा।उन्होंनेकहाकिश्रमिकदेशकीरीढ़कीहड्डीहैं,जोदेशकोमजबूतकरतेहैं।मजदूरखड़ेहैतोहमारीइमारतेंखड़ीहैं,शहरखड़ेहैं।इसलिएश्रमिकोंकेसम्मानवहितोंकाध्यानरखनाहमारीसरकारकीमुख्यप्राथमिकताहै।

मनीषसिसोदियानेबतायाकिसरकारदिल्लीमें45परपंजीकरणशिविरोंकाआयोजनकररहीहै।येशिविर29सरकारीस्कूलोंऔर16प्रमुखनिर्माणस्थलोंपरलगाएजाएंगे।साथहीसभीजिलोंमेंमोबाइलइकाइयांलगातारदिल्लीकेविभिन्ननिर्माणस्थलोंपरजाकरभीश्रमिकोंकोपंजीकृतकरेंगी,ताकिश्रमिकोंकोअपनीदिहाड़ीनकटवानीपड़े।उन्होंनेबतायाकिदिल्लीमें262प्रमुखलेबरचौकपरकाफीश्रमिककामकीतलाशमेंइकट्ठाहोतेहैं।

इनजगहोंपरभीहोर्डिंग्स,पोस्टरऔरहैंडबिलवितरणकेसाथबड़ेपैमानेपरजागरूकताअभियानचलायाजारहाहैताकिअधिकसेअधिकनिर्माणश्रमिकोंकोअपनेनजदीकीस्थानोंपरपंजीकरणशिविरोंमेंजाकरपंजीकरणकेलिएप्रोत्साहितकियाजासके।लगभग52,000पंजीकरणप्रक्रियामेंहैंजोजल्दीसेपूरेहोजाएंगे।

उन्होंनेबतायाकिनिर्माणश्रमिकनएपंजीकरण,पंजीकरणकेनवीनीकरणऔरसत्यापनप्रक्रियाकेलिए22फरवरीसे22मार्चतक,सोमवारसेशुक्रवारसुबह9बजेसेशाम5बजेतकशिविरोंमेंजासकतेहैं।श्रमिकडोरस्टेपडिलीवरीसुविधाद्वाराभीअपनापंजीकरणकरवासकतेहै।श्रमिकोंकोकेवल1076परकॉलकरनाहोगा।

श्रमविभागकेलोगश्रमिकोंकीसुविधाकेअनुसारउनकेघरजाकरउन्हेंपंजीकृतकरवाएंगे।मालूमहोकिश्रमिकोंकोदिल्लीसरकारसेमिलनेमिलनेवालीसहायताकेतहतघरनिर्माणकेलिए3से5लाखरुपये,मातृत्वलाभमें30000रुपये,टूलखरीदनेकेलिए20,000रुपयेकालोनव5000रुपयेकीसहायताराशि,श्रमिकोंकेप्राकृतिकमृत्युपर1लाखवदुर्घटनामृत्युपर2लाखकीसहायताराशि,अपंगहोजानेपर1लाखकीसहायताराशिव3000रुपयेप्रतिमाहपेंशन,बच्चोंकीस्कूलीशिक्षावउच्चशिक्षाकेलिए500से10000रुपयेप्रतिमाह,श्रमिकोंवउनकेबच्चोंकेविवाहकेलिए35000से51000रुपयेकीसहायताराशि,वृद्धावस्थापेंशनकेरूपमें3000रुपयेप्रतिमाहकीसहायताराशिदीजातीहै।