देवरिया शेल्टर होम कांड में पुलिस की भूमिका संदिग्ध, शासन ने दिए जांच के आदेश

देवरिया।उत्तरप्रदेशकेदेवरियामांविंध्यवासिनीबालिकासंरक्षणगृहमामलेमेंपुलिसकीभूमिकाभीसवालोंकेघेरेमेंहै।मांविंध्यवासिनीबालिकासंरक्षणगृहकीमान्यतारद्दहोनेकेबादभीयहांलड़कियोंकोभेजजारहाथा।शासननेइसमामलेकीजांचएडीजीगोरखपुरजोनदावाशेरपाकोसौंपीहै।जांचशुरूहोनेकीखबरमिलतेहीपुलिसमहकमेंमेंहड़कंपमचगयाहै।

मान्यतासमाप्तहोनेकेबादभीचलरहीथीसंस्थामांविंध्यवासिनीबालिकासंरक्षणगृहमेंअनियमितताएंपाईजानेपर23जून2017कोइसकीमान्यतारद्दकरदीगईथी।जिलाप्रोबेशनअधिकारीनेबाकायदाविज्ञप्तिजारीकरइससंस्थाकोअवैधघोषितकरदियाथा।इसकेबावजूदपुलिसविभिन्नथानोंमेंबरामदबच्चियोंकोयहांपरलाकररखतीरही।देवरियाकेअलावाआसपासकेजिलोंसेभीपुलिसनेबच्चियोंऔरसंवासिनियोंकोयहांपरभेजथा।

शासननेदिएजांचकेआदेशबालिकागृहकांडकाखुलासाहोनेकेबादअबइसमामलेकीजांचभीशुरूहोगईहै।शासननेइसकीजिम्मेदारीएडीजीजोनदावाशेरपाकोसौंपीहै।सूत्रोंकीमानेंतोजांचशुरूहोतेहीपुलिसमहकमायहसूचीतैयारकरनेमेंजुटगयाहै।ऐसेमेंपुलिसमहकमेमेंभीहड़कंपमंचगयाहै।

जिलाधिकारीकेपत्रकीहुईअनदेखीनिवर्तमानडीएमसुजीतकुमारनेशासनकेनिर्देशकेक्रममेंमांविध्यवासिनीमहिलाप्रशिक्षणएवंसमाजसेवासंस्थानद्वारासंचालित(बालगृहबालिका,बालगृहशिशु,विशेषज्ञदत्तकग्रहणइकाई)प्रकल्पोंकोरोकनेकेलिए19सितंबर2017कोएसपीदेवरियाकोपत्रलिखाथा।पत्रकेमुताबिकइससंस्थानकीमान्यतातत्कालरद्दकरनेऔरउसमेंरहनेवालेबच्चोंकोदूसरेजिलोंकीसंस्थाओंकोभेजनेकीबातथी।