डेढ़ साल तक बंद रहे सरकारी स्कूलों की इमारत हो गई खस्ताहाल, पहला दिन व्यवस्था बनाने में गुजरा; निजी स्कूलों ने छात्रों का किया जोरदार स्वागत

सरकारीस्कूलटपकतीछतों,टूटीबेंचऔरगंदगीकेबीचआजखुलगए।ऐसेअधिकांशस्कूलोंमेंपढ़ाईशुरूनहींहोसकी।कहींस्टूडेंट्सस्कूलनहींपहुंचेतो,कुछजगहोंमेंस्थानीयसमितिकीअनुमतिनहींमिली।उधरकुछनिजीस्कूलोंमेंबाजे-गाजेकेसाथछात्रोंकास्वागतकियागया।यहांउपस्थितिभीअच्छीरही।

डेढ़सालसेबंदशासकीयस्कूलबदहाल

राज्यसरकारकेनिर्देशकेबादआजसेस्कूलोंकासंचालनशुरूकियागयाहै।पहलेचरणमेंदसवीं12वींऔरपहलीसेपांचवीतककेस्कूलशुरूकिएगएहैं।बिलासपुरमेंअव्यवस्थाकेबीचस्कूलोंकासंचालनशुरूकियागया।डेढ़सालसेबंदपड़ेअधिकांशस्कूलखस्ताहालहैं।ग्रामीणक्षेत्रोंकेस्कूलोंकीस्थितिसबसेज्यादाखराबहै।कहींबारिशकापानीछतोंसेटपकरहाहै,तोकहीडेस्कबेंचटूटेपड़ेहैं।बावजूदइसकेआजकक्षाएंशुरूकरदीगई।यहीवजहरहीकिअधिकतरस्कूलोंमेंव्यवस्थाबनानेमेंहीपहलादिनबीतगया।

अभीभीस्कूलखोलनेजनप्रतिनिधियोंकेसाथबैठक

कुछस्कूलोंमेंस्टूडेंट्सकेनहींपहुंचनेकेकारणभीसोमवारकोपढ़ाईशुरूनहींहोसकीहै।वहींकुछस्कूलस्थानीयसमितिकेअनुमतिनहींमिलनेकेकारणशुरूनहींकियाजासकेहैं।हालांकिस्कूलप्रबंधनऐसेस्थानोंपरस्थानीयसमितिवजनप्रतिनिधिसेअनुमतिलेकरस्कूलखोलनेकीतैयारीमेंहै।स्कूलप्रबंधनअभिभावकोंकेसाथहीबैठककरसमन्वयबनानेमेंलगाहुआहै।मौजूदावक्तमेंजिलेमें223हायरसेकंडरीऔर1114प्राथमिकस्कूलहैं।सरकारनेकोविडगाइडलाइनकापालनकरतेहुए50प्रतिशतक्षमताकेसाथस्कूलोंकासंचालनशुरूकरनेकेनिर्देशदिएहैं।

कुछस्कूलोंमेंबैंडकेसाथबच्चोंकाहुआस्वागत

शहरमेंकुछऐसेभीस्कूलरहेजहांआजढोल-नगाड़ोंकेसाथपहलादिनशुरूहुआ।बर्जेसअंग्रेजीशालामेंविद्यार्थियोंकास्वागतबड़ेउत्साहवउमंगकेसाथबैंडकीधुनमेंफूलोंकीमालाऔरपंखुड़ियोंकीवर्षाकरस्वागतकियागया।शालाकीप्राचार्याश्रीमतीनिशिताहंसादासनेबतायाकिकोरोनाकाप्रभावकमहोनेसेशासनकेनिर्देशकापालनकरतेहुएहमनेशालामेंऑनलाइनवऑफ़लाइनदोनोंस्तरपरपढ़ाईशुरूकीहै।लंबेअंतरालकेबादबच्चोंकोशालामेंआतेदेखबेहदखुशीकाअनुभवहोरहाहै।ईश्वरसेप्रार्थनाहैजल्दहीपूरीक्षमतासेशालालगे।