चंडीगढ़ के सरकारी स्कूल में टीचर्स ने बनाया पॉलीहाउस, मिड-डे मिल में बच्चों की खिलाई जाती हैं आर्गेनिक सब्जियां

चंडीगढ़,[सुमेशठाकुर]।स्कूलमेंस्टूडेंट्सकोकिताबीशिक्षादेनेकेसाथजरूरीहैउन्हेंपर्यावरणसेजोड़ना।इसीसोचकेसाथगवर्नमेंटमॉडलसीनियरसेकेंडरीस्कूलसेक्टर-21केस्कूलनॉनटीचिंगऔरटीचिंगस्टाफनेमिलकरतैयारकियाहैस्पेशलगार्डन।जिसकीशुरुआतपॉलीहाउससेकीगईहै,जिसमेंअनेकप्रकारकीसब्जियोंऔरहर्बलपौधोंउगाए गएहैं।वहींउसकेसाथबाहरकिचनगार्डनऔरहर्बलगार्डनकानिर्माणकियागयाहै।किचनगार्डनमेंविभिन्नप्रकारकीसब्जियांऔरहर्बलगार्डनमेंचर्मरोगसेनिजातदिलानेवालेपौधोंकोउगायागयाहै।जिसकाउद्देश्यस्टूडेंट्सकोपर्यावरणसेमिलनेवालेहर्बलप्रकृतिकीजानकारीदेनेकेसाथ-साथउसकेबचावकेलिएजागरूककरनाहै।

गार्डनकोकोरोनाकालकेदौरानतैयारकियागयाहै।स्कूलईकोक्लबइंचार्जनिर्मलसिंहनेबतायाकिऑनलाइनपढ़ाईकेबादजोभीसमयबचताहै,उससमयमेंगार्डनमेंकामकियाजाताहै। अबइसगार्डनमेंसब्जियांकीअच्छीपैदावारहोरहीहै। जबतकस्कूलखुलेंगेऔरमिडडेमीलपकेगाउससमयतकहमारेपासबच्चोंकेलिएऑर्गेनिकसब्जियांपर्याप्तमात्रामेंहोजाएंगी।

पॉलिहाउसकेबाहरबनायागयाकिचनगार्डन।

हरीसब्जियोंकेसाथकियाकुटियाकानिर्माण

स्कूलकैंपसमेंसब्जियोंकोउगानेकेसाथकुटियाकाभीनिर्माणकियागयाहैजहांपरबैठकरकोईभीप्रकृतिकानजारालेसकतेहैं।कुटियामेंबैठनेकेअलग-अलगबेंचलगाएगएहैंजहांपरटीचिंगऔरनॉनटीचिंगस्टाफसेलेकरस्टूडेंट्सबैठसकतेहैं।

नेमप्लेटकेसाथलगाएगएपौधे

स्कूलमेंबनाएगएगार्डनकेसाथटीचर्सऔरस्टूडेंट्सनेपौधेलगाएहैं।इनपौधोंउनकेइन्हेलगानेवालेशख्सकीनेमप्लेटभीलगाईगईहैं।नेमप्लेटलगानेकाउद्देश्ययहहैकिजिसनेभीयहपौधालगायाहैवहउसकीदेखभालऔररखरखावभीकरेगाऔरयहयादगारकेतौरपरभीपहचानबनेगी।

स्टूडेंट्सकेभविष्यऔरप्रकृतिबचावकाप्रयासःप्रिंसिपल

स्कूलप्रिंसिपलसुखपालकौरनेबतायाकिहमाराप्रयासस्टूडेंट्सकोउज्ज्वलभविष्यदेनाहै।इसकेलिएहमआर्गेनिकसब्जियोंउगारहेहैं।इनसब्जियोंकोस्टूडेंट्सकोमिडडेमीलदियाजाएगाऔरउन्हेंजानकारीभीमिलेगीकिकौनसीसब्जीकापौधाकिसप्रकारकाहोताहै।वहींदूसरादूसराप्रयासप्रकृतिकोबचानाहै।यदिहमारेप्रयाससेप्रकृतिबचावमेंथोड़ाभीफर्कपड़ताहैतोयहहमारेलिएगौरवकाविषयहै।