चित्रांशों से भेदभाव भुलाकर एकता पर जोर

सीतामढ़ी।पुपरीअनुमंडलस्तरीयचित्रांशसम्मेलनरविवारकोशहरस्थितज्ञानलोकविद्यालयमेंआयेजितकीगई।कार्यक्रमकीशुरुआतचित्रांशोंनेचित्रांशवंदनाकेसाथकी।इसअवसरपरजिलावविभिन्नक्षेत्रसेआएवक्ताओंनेसमाजकीओरसेइसतरहसम्मेलनआयोजितकरनेकोलेकरप्रसन्नताजाहिरकी।वक्ताओंनेएकताहीबलहैजैसेबातपरबलदेतेहुएखासकरयुवापीढ़ीसेसंगठितहोकरएकसूत्रमेंबंधनेकीअपीलकी।चित्रांशोंसेभेदभावभुलाकरएकतास्थापितकरनेपरजोरदिया।कहाकितभीसमाजकासर्वांगीणविकासहोसकेगाऔरसमाजएवंराष्ट्रकीसेवाकरपाएंगे।इसदौरानविभिन्नसमस्याओंपरविचार-विमर्शकरपुपरी,बाजपट्टी,नानपुरवचोरौतसमेतअन्यप्रखंडोंसेपहुंचेचित्रांशोंनेअपना-अपनाविचाररखा।साथहीबिनादहेजविवाह,विधवाविवाहकेप्रतिसक्रियकदमउठानेकीजरूरतपरजोरदिया।सम्मेलनकीअध्यक्षताअनुमंडलअध्यक्षडॉ.कुमकुमसिन्हानेकी।जबकिसंचालनमनोजलालकर्णनेकिया।कार्यक्रमकोमुख्यअतिथिअंजनीकुमारवर्मा,अधिवक्ताअखिलेन्द्रवर्मा,कुमारअभिमन्यु,नरेंद्रप्रसादसिन्हा,डॉ.संजयवर्मा,डॉ.सोनीवर्मा,प्रो.जितेंद्रवर्मा,प्रदीपसिन्हा,सन्नीश्रीवास्तव,चित्रांशकेजिलाअध्यक्षराजूश्रीवास्तव,नवनीतकुमार,शिवशंकरप्रसाद,मनोजवर्माआदिनेसंबोधितकिया।मौकेपरप्रमोदकुमार,राजूकुमार,विनोदकुमारवियोगी,शैलेन्द्रकर्ण,शम्भूप्रसादकर्ण,संदीपश्रीवास्तव,रॉकीकुमार,वीरेंद्रश्रीवास्तव,हेमप्रकाशकर्णसमेतदर्जनोंचित्रांशमौजूदथे।