चीन के विशेषज्ञ ने पीएम मोदी के सुधारों की तारीफ की, कहा- कर्ज संकट को टालने में मिलेगी मदद

नईदिल्लीभारतीयबैंकिंगसिस्टममेंपिछलेतीनवर्षोंसेज्यादासमयमेंकरीब92.34अरबडॉलर(6लाखकरोड़रुपये)केनॉन-परफॉर्मिंगअसेट्स(NPA)कापताचला।हालहीमेंपंजाबनैशनलबैंककेसाथनीरवमोदीके2अरबडॉलरकेफर्जीवाड़ेकेसामनेआनेकेबादस्थितिऔरभीखराबहोगई।चीनकेसरकारीअखबारग्लोबलटाइम्समेंप्रकाशितलेखमेंयहजानकारीदेतेहुएएकविशेषज्ञनेउम्मीदजताईहैकिप्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदीद्वाराबैंकिंगप्रणालीमेंकिएजारहेसुधारोंकेचलतेभारतकर्जसंकटसेबचजाएगा।युन्नानअकैडमीऑफसोशलसाइंसेजकेडेप्युटीडायरेक्टरचेनलिजुननेलिखाहैकिसांख्यिकीयतरीकोंमेंभिन्नताहोसकतीहैलेकिनसबसेकमवालाअनुमानयहकहताहैकिबैडडेटरेशियो10प्रतिशतसेज्यादाहोगयाहै।उन्होंनेकहाकिहालांकिइसबातकीसंभावनाकमहैकिभारतकोकभीकर्जसंकटकासामनाकरनापड़े।इसकेलिएउन्होंनेमोदीकेसुधारोंकोजिम्मेदारठहराया।लिजुनलिखतेहैं,'अल्पकालिकनकारात्मकप्रभावकेबावजूदनरेंद्रमोदीद्वाराबैंकिगसिस्टममेंकिएजारहेसुधारोंकासकारात्मकअसरदिखाहै।'पढ़ें:फ्रांसकीमददसेसोलरएनर्जीकेउपकरणोंकाबड़ाबेसबनेगाभारतNPAमेंबढ़ोतरीकेकईकारणहोसकतेहैं।भारतकीअर्थव्यवस्थाकोवित्तीयसंकटऔरकमजोरआर्थिकवृद्धिकासामनाकरनापड़ा,जिससेकंपनियोंकेमुनाफेपरअसरपड़ा।इससेकंपनियोंकीकर्जकोवापसचुकानेकीक्षमताकमजोरहुई।वहकहतेहैंकिआसानमौद्रिकनीतिकामकसदअर्थव्यवस्थाकोगतिप्रदानकरनाहै।कईढांचागतपरियोजनाएं,रियलएस्टेटऔरशेयरबाजारोंनेपूंजीजुटाईऔरइससेउधारबढ़गया।चीनीविशेषज्ञनेकहाकिबैंकिंगसिस्टममेंबैडडेट2017मेंस्थिररहा।दरअसल,संकटतबपैदाहोताहैजबकर्जसेसरकारीवप्राइवेटदोनोंबैंकप्रभावितहोतेहैं।भारतकेलिएफिलहालऐसानहींहैक्योंकिबैडडेटकीसमस्यामुख्यरूपसेसरकारीबैंकसेक्टरसेजुड़ीहै।उन्होंनेलिखाहैकिमोदीकेबैंकोंकेएकीकरणसेजुड़ेकदमोंसेअर्थव्यवस्थाकमसमयकेलिएप्रभावितहोसकतीहैलेकिनलंबेसमयमेंइसकासकारात्मकप्रभावपड़ेगा।पढ़ें:'कर्जबांटकरग्लोबलपावरबननाचाहताहैचीन'उन्होंनेकहाकिबड़ीसंख्यामेंबैकोंकेबीचप्रतिस्पर्धासेNPAबढ़ताचलागया।बैंकिंगसिस्टममेंसुधार(खासतौरसेसरकारीबैंकोंमें)सेबैंकोंकीसंख्याकमहुईहै।इसकेसाथहीविदेशीबैंकोंकीपहुंचमार्केटतकबढ़ीहै।दबावकोकमकरनेकेलिएभारतनेबैंकिंगसिस्टममें32अरबडॉलरकायोगदानकियाहै।लेखमेंलिजुनलिखतेहैंकिभारतसरकारऔरबैंकोंनेNPAकमकरनेकेलिएनीतियांअपनाईंहैं।बैंकोंनेअच्छीसंभावनाओंवालीकंपनियोंकीमददकेलिएऔरलोनजारीकिएहैं।उधर,एकबैंकरप्सीलॉभीपारितहुआहैजोकंपनियोंपरशिकंजाकसताहै।उनकाकहनाहैकिभारतकाऔद्योगिकढांचाकुछइसतरहकाहैकिकर्जकादबावलंबानहींचलेगा।चीनकीतुलनामेंभारतमेंकंपनियांकमहैंऔरज्यादातरभारतीयकंपनियांसर्विससेक्टरमेंहैं-पर्यटन,परिवहनऔरसूचनाउद्योगमें।हैवीइंडस्ट्रियलकंपनीजकेलिएमार्केटकेगिरावटकेसमयपैसाजुटानाकाफीमुश्किलहोताहैलेकिनसर्विससेक्टरकेलिएइससमयभीज्यादादबावनहींरहताहै।