बुराई पर विजय का प्रतीक है विजयादशमी

समस्तीपुर,जेएनएन।बुराईपरअच्छाईकेविजयकाप्रतीकहैविजयादशमी।भगवानरामनेभीरावणकोमारनेसेपहलेमांदुर्गाकीवंदनाकरउनकाआशीर्वादप्राप्तकियाथा।यहबातस्थानीयजदयूविधायकसहविधानसभाअध्यक्षविजयकुमारचौधरीनेरविवारकोप्रखंडकेमुसरीघरारीमेंमांदुर्गाकीपूजा-अर्चनाकेदौरानकही।उन्होंनेकहाकिविजयादशमीकेअवसरपरसमाजकेउनतमामरावणकाविरोधऔरविनाशकासंकल्पलेंजोकिसीदुर्गा,सरस्वती,लक्ष्मी,कालीयापार्वतीसेउनकासम्मानितजीवनजीनेकाअधिकारछीनतेहैं।कहाकिअपनेअंदरएवंबाहरीशत्रुओंपरविजयप्राप्तकरनेकीसदबुद्धिसबकोमिले,यहीमांदुर्गादेवीकेचरणोंमेंमेरीप्रार्थनाहै।इसकेपूर्वविसअध्यक्षनेपटेलचौक,गांधीचौक,तिसवारा,भगवतपुर,हरसिंहपुर,लाटबसेपुरा,गंगापुर,मेयारी,झखड़ाएवंरायपुरस्थितपूजापंडालोंमेंजाकरमांदुर्गाकादर्शनकिया।मौकेपरप्रखंडजदयूअध्यक्षरामाश्रयप्रसाद,शशिनाथझा,अनिलसिंहबाबा,विश्वनाथप्रसादसिंह,रामकुमारझा,घनश्यामठाकुर,रंजीतपटेल,संतोषपटेल,राजीवकुमारदास,नागराजझा,परमानंदमिश्र,उमेशचंद्रमिश्र,मुनींद्रझा,राजूशर्मा,विनयकुमारशर्मा,मनीषकुमारसिंहसमेतकईअन्यगणमान्यलोगमौजूदरहे।