बर्ड फ्लू ने मुश्किल कर दिया मछुआरों का जीवन, आखेट पर प्रतिबंध से रोजी-रोटी पर मंडराया संकट

नगरोटासूरियां,जेएनएन।पौंगझीलमेंबर्डफ्लूसेप्रवासीपक्षियोंकीमौतहोनेकेकारणमत्स्यआखेटपरएकदमसेप्रतिबंधलगादियाहै।इससेमछुआरेरोजीरोटीकेलिएभारीपरेशानीउठारहेहैं।कोरोनाकेकारणपहलेहीछहमहीनेतकझीलमेंमत्स्यआखेटपरप्रतिबंधलगारहा।पिछलेसालसितंबरमेंझीलमेंमछुआरोंनेमछलीपकड़नेशुरूकीथीतोदिसंबरमेंबर्डफ्लूकेकारणफिरप्रतिबंधलगादिया।इससेअबमछुआरोंकोरोजी-रोटीकेलालेपड़गएहैंतथाअपनेव्यवसायकोछोड़करमछुआरोंकोदिहाड़ीलगानेकेलिएमजबूरहोनापड़रहाहै।मछुआरोंकेघरकाचूल्हाबड़ीमुश्किलसेचलपारहाहै।

मछुआराविजयकुमार,सतपाल,राजिन्दरकाका,कृष्णकुमार,अशोककुमार,संजयकुमार,संदीपकुमार,संजीवकुमार,कर्मचन्द,तन्नूराम,वीरसिंह,अशवनीकुमार,मनोजकुमार,सुभाषचन्द,राकेशकुमार,इन्द्रपाल,नरेशकुमारनेकहापौंगझीलमेंएकदमसेमत्स्यआखेटपरप्रतिबंधलगानेसेउनकेजालपानीमेंहीरहगएहैंतथाकश्तियांभीसूखीजगहपरपड़ीहुईहैं।सूखीजगहपरकश्तियांकेपड़ेहोनेसेउन्हेंदीमकलगजाएगीतथामछुआरोंकाहजारोंरुपयेकानुकसानहोजाएगा।

उन्होंनेकहापौंगझीलमेंमछलीपकड़नेकाकार्यकरनेसेहीउनकेपरिवारकापालन-पोषणहोताहै।उन्होंनेकहाकरीब2200मछुआरेमछलीपकड़नेकाकार्यकरकेआजीविकाकमातेहैं।लेकिनअबउनकोघरकाखर्चउठानामुश्किलहोगयाहै।उन्होंनेकहाअगरबर्डफ्लूकेचलतेसरकारनेमछलीपकड़नेकेलिएजानेवालेमछुआरोंपरपाबंदीलगानीथीतोउसहिसाबसेमछुआरोंकेलिएकोईराहतराशिभीदीजानीचाहिएथी।

उन्होंनेकहाकिमछुआरोंकोझीलमेंलगेजालोंकोनिकालनेदियाजाएवकिश्तियोंकोभीपानीमेंपहुंचानेदियाजाए।मछुआरोंनेप्रदेशसरकारवमत्स्यविभागसेमांगउठाईहैकिमछुआरोंकोराहतराशिप्रदानकीजाएताकिपरिवारकापालन-पोषणकरसकें।