बलिदान दिवस पर भाजपा ने शुरू किया पौधरोपण, कहा, बेकार नहीं जाएगा डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी का बलिदान

जागरणसंवाददाता,सिलीगुड़ी:डॉश्यामाप्रसादमुखर्जीके68वेंबलिदानदिवसकेउपलक्षमेंभारतीयजनतापार्टीसिलीगुड़ीसांगठनिकजिलाकमेटीकीओरसेपौधरोपणअभियानकाशुभारंभकियागया।बुधवारकोशहरकेवार्ड46स्थितश्रीगुरुविद्यामंदिरविद्यालयकेसामनेपौधरोपणअभियानमेंजिलाध्यक्षप्रवीणअग्रवाल,जिलामहासचिवराजूशाह,जिलासचिवकन्हैयापाठक,भाजपानेतानांटुपाल,पंकजशाह,रविराय,शिखाराय,मुन्नाभद्र,दिनेशसिंहसहितअन्यकार्यकर्तामौजूदथे।

इसमौकेपरजिलाअध्यक्षप्रवीणअग्रवालनेकहाकियहकार्यक्रम6जुलाईतकचलेगा।इसअभियानकेतहतपूरेजिलेमें10,000पौधरोपणकिएजाएंगे।भाजपाजिलाकार्यालयमेंभीकीप्रतिमापरपुष्पअर्पितकरउनकेसपनोंकोपूराकरनेकेलिएसंकल्पलियागया।

आजभीमुखर्जीकानिधनरहस्यकेघेरेमें

भाजपानेताओंनेकहाकि डॉक्टरश्यामाप्रसादमुखर्जीनिधनकोलगभग7दशकबीतनेकेबादभीउनकीमौतपहेलीबनीहुईहै।कुछसमयपहलेकोलकाताहाईकोर्टमेंएकयाचिकादायरकीगई,जिसमेंयाचिकाकर्तानेमांगकीहैकिडॉमुखर्जीकीमौतकीजांचकेलिएकमीशनबने।इससेतयहोसकेगाकिउनकीमौतप्राकृतिकथीयासाजिश।वैसेभूतपूर्वप्रधानमंत्रीअटलबिहारीवाजपेयीतकनेजनसंघकेसंस्थापकमुखर्जीकेकिसीसाजिशकाशिकारहोनेकासंदेहजतायाथा।आजादीकेसमयसेदेशकेइतिहासमेंजिनतीननेताओंकीमौतपहेलियांबनकररहगईं,उनमेंनेताजीसुभाषचंद्रबोस,पूर्वप्रधानमंत्रीलालबहादुरशास्त्रीकानामशामिलहैऔरउसीफेहरिस्तमेंतीसरानाममुखर्जीकाहै।

सवालतोयहीथाकिमुखर्जीकोजेलसेट्रांसफरक्योंकियागया।उन्हेंएककॉटेजमेंक्योंरखागया?दूसरायेकिडॉ.अलीनेयहजाननेकेबावजूदकिमुखर्जीकोस्ट्रेप्टोमाइसिनसूटनहींकरती,वोदवाक्योंदी?तीसरासवालयेथाकिएकमहीनेसेज़्यादावक्ततकमुखर्जीकोसहीऔरसमयपरइलाजक्योंनहींदियागया?चौथायेकिउनकीदेखभालमेंसिर्फएकहीनर्सक्योंथी,वहभीरातकेवक्तजबमुखर्जीकीहालतगंभीरथी?येसवालभीथाकिमौतकासमयअलगअलगक्योंबतायागया?हिरासतमें मुखर्जीकीमौतकीखबरनेपूरेदेशमेंखलबलीपैदाकरदीथी।कईनेताओंऔरसमाजवसियासतसेजुड़ेकईसमूहोंनेमुखर्जीकीमौतकीनिष्पक्षजांचकराएजानेकीमांगकीथी।मुखर्जीकीमांजोगमायादेवीनेभीतत्कालीनप्रधानमंत्रीनेहरूकोइसमांगसंबंधीचिट्ठीलिखी।लेकिनजवाबमेंनेहरूनेयहीकहाकिमुखर्जीकीमौतकुदरतीथी,कोईरहस्यनहींकिजांचकरवाईजाए।

कमसमयमेंपाईथीप्रतिष्ठा

जुलाई1901कोकोलकाताकेएकसंभ्रांतबंगालीपरिवारमेंजन्मेमुखर्जीकेपिताआशुतोषमुखर्जीराज्यमेंशिक्षाविद्बतौरजानेजातेथे।लिखने-पढ़नेकेमाहौलमेंबढ़तेमुखर्जीकेवल33सालकीउम्रमेंकोलकातायूनिवर्सिटीकेकुलपतिबनगए।वहांसेवोकोलकाताविधानसभापहुंचे।यहांसेउनकाराजनैतिककरियरशुरूहुआलेकिनमतभेदोंकेकारणवेलगातारअलगहोतेरहे।

कश्मीरमेंअलगकायदे-कानूनकेविरोधीथे

मुखर्जीअनुच्छेद370काविरोधकरतेरहे।वेचाहतेथेकिकश्मीरभीदूसरेराज्योंकीतरहहीदेशकेअखंडहिस्सेकीतरहदेखाजाएऔरवहांभीसमानकानूनरहे.यहीकारणहैकिजबपंडितजवाहरलालनेहरूनेउन्हेंअपनीअंतरिमसरकारमेंमंत्रीपददियातोकुछहीसमयमेंउन्होंनेइस्तीफादेदिया।कश्मीरमामलेकोलेकरमुखर्जीनेनेहरूपरतुष्टिकरणकाआरोपलगायाथा।साथहीकहाथाकिएकदेशमेंदोनिशान,दोविधानऔरदोप्रधाननहींचलेंगे।

कश्मीरजातेहुएगिरफ्तारी

इस्तीफादेनेकेबादवेकश्मीरकेलिएनिकलपड़े।वेचाहतेथेकिदेशकेइसहिस्सेमेंजानेकेलिएकिसीइजाजतकीजरूरतनपड़े।नेहरूकीनीतियोंकेविरोधकेदौरानमुखर्जीकश्मीरजाकरअपनीबातकहनाचाहतेथे,लेकिन11मई1953कोश्रीनगरमेंघुसतेहीउन्हेंगिरफ्तारकरलियागया।तब,वहांशेखअब्दुल्लाकीसरकारथी।दोसहयोगियोंसमेतगिरफ्तारकिएगएमुखर्जीकोपहलेश्रीनगरसेंट्रलजेलभेजागयाऔरफिरवहांसेशहरकेबाहरएककॉटेजमेंट्रांसफर​करदियागया।

लगातारबिगड़तीगईसेहत

एकमहीनेसेज़्यादाकैदरखेगएमुखर्जीकीसेहतलगातारबिगड़रहीथी।उन्हेंबुखारऔरपीठमेंदर्दकीशिकायतेंबनीहुईथीं।19व20जूनकी रातउन्हेंप्लूराइटिसहोनापायागया।जोउन्हें1937और1944मेंभीहोचुकाथा।डॉक्टरअलीमोहम्मदनेउन्हेंस्ट्रेप्टोमाइसिनकाइंजेक्शनदियाथा।मुखर्जीनेडॉ.अलीकोबतायाथाकिउनकेफैमिलीडॉक्टरकाकहनारहाथाकियेदवामुखर्जीकेशरीरकोसूटनहींकरतीथी।अलीनेउन्हेंभरोसादिलाकरयेइंजेक्शनदियाथा।

औरफिरहोगयाहार्टअटैक

22जूनकोमुखर्जीकोसांसलेनेमेंतकलीफमहूससहुई।अस्पतालमेंशिफ्टकरनेपरहार्टअटैकहोनापायागया।राज्यसरकारनेघोषणाकीकि23जूनकीअलसुबह3:40बजेदिलकेदौरेसेमुखर्जीकानिधनहोगया।अस्पतालमेंइलाजकेदौरानएकहीनर्समुखर्जीकीदेखभालकेलिएथींराजदुलारीटिकू।टिकूनेबादमेंअपनेबयानमेंकहाकिजबमुखर्जीपीड़ामेंथेतबउसनेडॉ.जगन्नाथज़ुत्शीकोबुलायाथा।.ज़ुत्थीनेनाज़ुकहालतदेखतेहुएडॉ.अलीकोबुलायाऔरकुछदेरबाद2:25बजेमुखर्जीचलबसेथे।