बिहार में 4500 से ज्यादा प्राइवेट स्कूल बंद, 20 हजार से ज्यादा शिक्षक बेरोजगार

कोरोनाकीमहामारीकाअसरशिक्षणसंस्थानोंपरसबसेज्यादापड़ाहै।दोवर्षोंसेबच्चेऑनलाइनपढ़ाईकररहेहैं।कुछशिक्षकोंकोआधीसैलरीमिलीहैऔरकुछकोसैलरीनहींमिलीहै।दोवर्षोंमें20हजारसेज्यादाशिक्षकोंकीनौकरीचलीगईहै।अभिभावककेफीसनदेपानेकीवजहसे4500सेज्यादास्कूलोंपरतालाबंदहोगयाहै।प्राइवेटस्कूलअधिकतरकिराएकेमकानपरचलतेहैंऔरपूर्णलॉकडाउनहोनेके

कारणस्कूलोंकोबंदकरनापड़ा।सबसेबुराहालप्लेस्कूलोंकाहै।पूरेबिहारके90प्रतिशतप्लेस्कूलबंदहोगएहैंऔरइनकेदुबाराखुलनेकीउम्मीदकमहै।2लाखबच्चेअबबिनास्कूलकेहोगएहैं।स्कूलोंमें50हजारकेकरीबकर्मचारियोंऔरनॉन-टीचिंगस्टॉफकीनौकरीचलीगईहै।

दोवर्षोंमेंस्कूलहीनहींबच्चेभीपरेशानहैं

पूरेबिहारकेएकहजारसीबीएसईस्कूलोंसे20हजारशिक्षकोंकोनिकालागया।जोशिक्षकबचेहैंउन्हेंपिछलेसालसेआधीसैलरीहै।एसोसिएश्नऑफइंडिपेंटेंडस्कूलकेप्रेसिडेंटडॉ.सीबीसिंहनेबतायाकिकईस्कूलोंमेंरी-अपाउइंटमेंटशुरूभीहुआलेकिनदोबारालॉकडाउनकीवजहसेसबबंदहोगया।दोवर्षोंमेंस्कूलहीनहींबच्चेभीपरेशानहैं।

अगरसमयपरफीसमिलतीतोस्कूलबंदनहींहोते

प्राइवेटस्कूलएंडवेलफेयरएसोसिएशनकेराष्ट्रीयअध्यक्षशमायलअहमदनेबतायाकिपूरेबिहारमेंकरीब25हजारप्राइवेटस्कूलहैं।इनमें4500सेज्यादास्कूलोंपरतालालगचुकाहै।किराएकेअभावमेंऔरअभिभावकोंकेफीसनदेनेकीवजहसेस्कूलबंदकरनेपड़ेहैं।कईस्कूलोंनेइससालऑनलाइनपढ़ाईबंदकरदीहैक्योंकिकईअभिभावकफीसदेनेकोतैयारहीनहींहैं।

ऐसेमें50से100औरस्कूलबंदहोनेकेकगारपरहैं।सरकारनेपिछलेपांचवर्षोंसेआरटीईकेपैसेनहींदिएहैंऔरतोऔरस्कूलोंकोसभीप्रकारकेटैक्सऔरबिजलीबिलकाभुगतानकरनापड़रहाहै।ऐसेमेंस्कूलबंदहोरहेहैं।शिक्षकोंकीरोजी-रोटीपरआफतहै।शमायलअहमदनेबतायाकिपटना,भागलपुर,मुजफ्रफरपुर,दरभंगाऔरगयामेंसबसेज्यादास्कूलबंदहुएहैं।पटनामेंकरीबएकहजारस्कूलोंपरतालालगाहै।

50%स्कूलोंमें25से50%अभिभावकदेरहेफीस

स्कूलोंकीसबसेबड़ीसमस्याहैकिअभिभावकफीसनहींदेरहेहैं।स्कूलोंकीमानेंतोकेवल2प्रतिशतहीस्कूलऐसेहैंजिनकीफीसकलेक्शन90प्रतिशतयाउससेज्यादाहै।वहीं50प्रतिशतविद्यालयऐसेहैंजिनकीफीसकलेक्शन25से50प्रतिशतहोरहीहै।