भारत में परिचालन मेट्रो नेटवर्क 2022 तक तेजी से बढ़कर 900 किलोमीटर से अधिक हो जाएगा: पुरी

नयीदिल्ली,18सितंबर(भाषा)केंद्रीयआवासऔरशहरीमामलोंकेमंत्रीहरदीपसिंहपुरीनेशनिवारकोकहाकिदेशकेविभिन्नशहरोंमेंइससमयलगभग740किलोमीटरकीमेट्रोलाइनचालूहैऔरनेटवर्कको2022तकलगभग900किलोमीटरतकबढ़ादियाजाएगा।दिल्लीमेट्रोकीग्रेलाइनकेनजफगढ़-ढांसाबसस्टैंडखंडकाशनिवारकोउद्धाटनकियागया।इसकेबादमेट्रोकीनजफगढ़केऔरअंदरूनीइलाकोंतकपहुंचगईहै।इसमौकेपरपुरीनेवीडियोकॉन्फ्रेंसकेमाध्यमसेकहा,‘‘हमएकअहमपड़ावपारकरनेजारहेहैं।भारतकेविभिन्नशहरोंमेंलगभग740किलोमीटरयाउससेअधिकमेट्रोलाइनेंचालूहैं,औरनेटवर्ककाविस्तार'लगातारहोनेवालाहै',औरहमनेपूरेदेशमेंविभिन्नचरणोंकीयोजनाबनाईहै।यह(मेट्रोनेटवर्क)900किलोमीटरसेअधिकहोजाएगा,मुझेलगताहैकि2022तकऐसाहोजायेगा।’’उन्होंनेकहाकि900किलोमीटरपरिचालितमेट्रोनेटवर्कअपनेआपमेंएकउपलब्धिहोगी।उन्होंनेकहाकिइसकेअलावा,देशकेअलग-अलगशहरोंमेंएकहजारकिलोमीटरकीमेट्रोलाइननिर्माणाधीनहैऔरआनेवालेवर्षोंमेंइसकाविस्तारदोहजारकिलोमीटरतककियाजाएगा।पुरीनेकोविड-19महामारीकेबावजूदअपनीविभिन्नउपलब्धियोंकेलिएदिल्लीमेट्रोकीसराहनाकी,औरडीएमआरसीसेउम्मीदजताईकीकिइसकेप्रमुखमंगूसिंहकेनेतृत्वमें,इसकीसवारियोंकीसंख्याको“एकदिनमें65लाखतकवापसलायाजासकताहै’’जैसाकिकोविडमहामारीसेपहलेथा।दिल्लीमेट्रोकीग्रेलाइनकाविस्तारहोनेकेबादमेट्रोनजफगढ़केऔरअंदरूनीइलाकोंतकपहुंचगईहै।डीएमआरसीकादायराअब286स्टेशनों(नोएडा-ग्रेटरनोएडामेट्रोकॉरिडोरऔररैपिडमेट्रो,गुड़गांवसहित)केसाथबढ़करलगभग392किलोमीटरहोगयाहै।पुरीनेकहाकिदिल्लीदुनियाकेसबसेखूबसूरतशहरोंमेंसेभीएकबनेगी।पुरीनेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालकेसाथगलियारेकाउद्घाटनकियाऔरउनकीसरकारकेसहयोगकेलिएउन्हेंधन्यवाददिया,औरउनसेडीएमआरसीनेटवर्ककेशेषगलियारोंकेलिएअपनासहयोगजारीरखनेकाभीआग्रहकिया।मुकुंदपुर-मौजपुर,आरकेआश्रम-जनकपुरीपश्चिमऔरएरोसिटी-तुगलकाबादकॉरिडोरकोकेंद्रीयमंत्रिमंडलनेमार्च2019मेंमंजूरीदीथी।चरण-चारकेअन्यतीनप्रस्तावितकॉरिडोर,जिन्हेंअभीतकसरकारद्वाराअनुमोदितनहींकियागयाहै,वेहैंरिठाला-बवाना-नरेला,इंद्रलोक-इंद्रप्रस्थऔरलाजपतनगर-साकेतजीब्लॉक।पुरीनेकहा,‘‘अरविंदजी,आपअक्सरदिल्लीकोएकविश्वस्तरीयशहरबनानेकेसंदर्भमेंलंदनऔरपेरिसकेबारेमेंबातकरतेहैं।मैंलंदनऔरन्यूयॉर्कमेंरहाहूं।और,दिल्लीमेंएकक्षमताहैऔरहमारेपासमौजूदअन्ययोजनाओंकेमाध्यमसेहमवास्तवमेंइसेआगेबढ़ासकतेहैं।’’केंद्रीयमंत्रीनेशहरीपरिवहनकेमहत्वपरजोरदिया,लेकिनयहभीरेखांकितकियाकिदेशकेबहुतसेक्षेत्रोंमें‘‘स्वायत्तशहरीकरण’’हुआहै।उन्होंनेकहा,‘‘कुशलशहरीपरिवहनप्रणालीलोगोंकेलिएसंपत्तिखरीदनायादूरीपरनिवासकरनाऔरआवागमनकोसंभवबनातीहै,भूमिमूल्यांकनऔरशहरीनियोजनकोप्रभावितकरतीहै,औरशहरीनीतियोंकोलाभपहुंचातीहै।’’भारतमेंजापानकेराजदूत,सतोशीसुजुकी,जोदूतावाससेवीडियोलिंकपरशामिलहुए,नेकहाकिदिल्लीमेट्रोदोनोंदेशोंकेबीचद्विपक्षीयसहयोगकाएक‘‘शानदारउदाहरण’’है।