बेरोजगार व गरीब लोग चरस तस्करों का निशाना

जागरणसंवाददाता,चंबा:जिलाचंबाकालासोनायानीचरसकीखानबनतीजारहीहै।माफियाकेलिएघाटीकेदूरदराजक्षेत्रऔरबेरोजगारवगरीबलोगकाफीफायदेमंदसाबितहोरहेहैं।इन्हेंमामूली-सामेहनतानादेकरमाफियाघाटीमेंचरसएकत्रकरनेमेंझोंकरहाहै।यहसहीहैकिकुछलोगपुलिसकेहत्थेचढ़तेभीहैं,लेकिनमाफियातकपुलिसनहींपहुंचपारहीहै।

पुलिसकीओरसेजिलाभरमेंवर्ष2018मेंपकड़ीगईचरसकाआंकड़ा2017सेलगभगदोगुनारहा।वर्ष2018मेंपुलिसद्वारा98.742किलोचरसपकड़ीगईहै।जबकि2017में60मामलोंमेंकेवल48किलोचरसपकड़ीगईथी।ऐसेमेंपिछलेवर्षकीतुलनामेंयहआंकड़ादोगुनाहोगयाहै।वर्षभरनकेवलचरसतस्करीअपितुहेरोइन,कोकीनसहित¨सथेटिकड्रग्सकेसाथभीलोगोंकोदबोचागयाहै।तस्करोंकेखुलासेपरपुलिसनेचरसविक्रेताओंकोभीगिरफ्तारकरसलाखोंकेपीछेधकेलाहै।

वर्ष2018मेंदर्जचरसकेकरीब30फीसदमामलोंमेंपुलिसनेउसव्यक्तिकोभीहवालातमेंबंदकियाहै,जिसनेतस्करकोचरसबेचीथी।हरवर्षचरसतस्करीकरनेपरभारीसंख्यामेंलोगोंकोगिरफ्तारकरहवालातमेंबंदकियाजाताहै।इसकेबावजूदचरसतस्करीकेमामलोंमेंलगातारइजाफाहोरहाहै।जिलामेंचरसतस्करोंकोपकड़नेकेलिएपुलिसद्वारापूरीरणनीतिकेसाथकार्यकियाजारहाहै।इसलिएअधिकचरसतस्करपुलिसकीगिरफ्तमेंआएहैं।लोगोंकाभीइसमेंसहयोगहै।सभीलोगनशेकेखिलाफजागरूकरहतेहुएइसकेखिलाफएकजुटहोकरकार्यकरेंतथापुलिसकासहयोगकरें,ताकिनशाखोरीपरलगामलगाईजासके।

डॉ.मोनिका,एसपीचंबा।गांव-गांवसेएकत्रकीजातीहैचरस

चरसमाफियाचंबामेंगर्मियोंमेंगांवस्तरसेचरसकीखेपएकत्रितकरताहै।क्षेत्रकेहीएकव्यक्तिकोइसपूरीखेपकोठिकानेपरलानेकेलिएमुंहमांगापैसादेनेकालालचदियाजाताहै।खेपकोठिकानेलगानेपरलानेमेंकामयाबहोनेपरउसेपैसेदिएजातेहैं।मगरकुछमाफियापैसादेनेमेंआनाकानीकरतेहैं।इसकारणक्षेत्रकेहीलोगपुलिसकोसूचनादेकरउन्हेंपकड़वादेतेहैं।अन्यराज्योंकेमजदूरभीनेटवर्कमेंशामिल

माफियानेअपनेनेटवर्कमेंगरीबमजदूरोंकोजोड़नाशुरूकरदियाहै।उत्तरप्रदेश,बिहारवपंजाबकेविभिन्नहिस्सोंसेमजदूरीकरपेटपालनेकेलिएनिकलेगरीबतबकेकोअबचंदरुपयोंकालालचदेकरमाफियाअपनेजालमेंफंसारहाहै।इसकेअलावास्थानीयलोगोंकोभीइसमेंझोंकाजारहाहै।बच्चेभीनशेकीगिरफ्तमें

चंबामेंनईपीढ़ीकाएकबड़ावर्गभीचरसकेनशेकीगिरफ्तमेंपड़चुकाहै।चरसकीकिस्मोंकोमलाणाक्रीमऔरबॉम्बेब्लैकजैसेनामयुवापीढ़ीकीजुबानपरहैंऔरजेबमेंचिलमऔररो¨लगपेपरतोऔरचॉकलेटकीतरहआमहोगईहै।यहांतककि12सालकेबच्चेभीमनोरंजनकेलिएइसकेनशेमेंडूबरहेहैं।