बदलाव की नई कहानी लिखता गांव का एक सरकारी स्कूल

ऋषिदेवगंगवार,बदायूं।यदिहरप्रधानाध्यापकऔरहरग्रामपंचायतइसीतरहप्रयत्नशीलहोउठेतोबेहतरबुनियादीशिक्षाकेअभावमेंपिछड़ताग्रामीणभारतनवयुगकीनईइबारतलिखसकताहै।बदायूं,उप्रकेआमगांवमेंबदलावकीऐसीहीकहानीलिखीगई।

प्रधानाध्यापिकाकेसमर्पितप्रयासकानतीजाबेसिकशिक्षापरिषदकेइसउच्चप्राथमिकविद्यालयमेंपहुंचकरदेखाजासकताहै।जर्जरभवन।टूटे-फूटेऔरगंदेशौचालय,चहुंओरगंदगी,बुनियादीसुविधाओंकाअभाव..यहतस्वीरथीपहले।लेकिनअबस्कूलकीसूरतऔरसेहतपूरीतरहसुधरगईहै।जगतब्लॉककेआमगावकायहविद्यालयअबकिसीसुविधासंपन्ननिजीस्कूलकोभीमातदेतेदिखताहै।यहसबमुमकिनहुआप्रधानाध्यापिकासंगीताशर्माकीनेकसोचऔरठोसप्रयासोंसे।

दातागंजकेसलेमपुरगावकीनिवासीसंगीता2010मेंआमगावकेइसविद्यालयमेंबतौरशिक्षिकानियुक्तहुईं।तबशैक्षिकगुणवत्तासेलेकरस्कूलपरिसरकीस्थितिभीबदतरथी।2015मेंसंगीताप्रधानाध्यापिकापदपरप्रोन्नतहुईं।उसकेबादउन्होंनेस्कूलकोसुधारनेकाप्रयासशुरूकरदिया।अपनेखर्चपरशौचालयकानिर्माणशुरूकराया।कामशुरूहोगयातोग्रामपंचायतकोभीसोचनेपरमजबूरहोनापड़ा।शौचालयकेनिर्माणपरचारलाखरुपयेखर्चहुए,जिसमेंसेढाईलाखसंगीतानेवहनकिएथे।उन्होंनेछात्रोंकेलिएअलगऔरछात्राओंकेलिएअलग,साथहीदिव्यागोंकेलिएभीअलगटॉयलेटबनवाया।इसमेंहैंडवॉश,साबुन,तौलियास्टैंड,वॉशबेसिनलगवाए।

पुरस्कारराशिभीलगादी..:

शैक्षिकगुणवत्तामेंसुधारकेलिएसंगीताकोजबराष्ट्रपतिपुरस्कारसेनवाजागयातोपुरस्कारस्वरूपमिलीराशिभीउन्होंनेविद्यालयमेंपरिवर्तनकेलिएखर्चकरदी।

स्वच्छताकेलिएयेसुविधाएंभी..:

स्कूलमेंएकसोपबैंकभीबनवाईगईहै।कोईभीव्यक्तिइसमेंदानस्वरूपसाबुनआदिजमाकरासकताहै।छात्राओंकेलिएअलगसेएकइनसिनेरेटर(विद्युतअंगीठी)भीलगवाईगईहै,ताकियूज्डसेनेटरीपैडकाउचितप्रबंधनकियाजासके।सेनेटरीपैडकेइस्तेमालकेलिएभीउन्होंनेस्कूलीछात्राओंकोजागरूककिया।

कचराऔरजलप्रबंधनभी..:

स्कूलमेंनतोकचराबेकारजाताहै,नपानी।कचरे,पत्तियों,बचेफल-सब्जीआदिकोएकत्रकरनेकेलिएगीले-सूखेकचरेकेअलग-अलगकूड़ादानरखेगएहैं।गीलेकचरेसेखादतैयारकीजातीहै,जोस्कूलमेंहीलगेपौधोंमेंइस्तेमालहोतीहै।जलसंचयकेलिएरेनवॉटरहार्वेस्टिंगसिस्टमलगवाया।

जागरूकताकाकेंद्रबनास्कूल..:

यहस्कूलगांवमेंजागरूकताबढ़ानेकाकामभीकररहाहै।बच्चोंकोसाथलेशिक्षकगावकेएक-एकघरमेंजागरूकताकासंदेशपहुंचातेहैं।घरोंमेंशौचालयबनानेकेलिएभीलोगोंकोजागरूककियागया।गावकीमहिलाओंकाहीमातासमूहगठितकियातोअसरभीहुआ।इसपहलसेजुड़10महिलाओंनेअपनेघरमेंशौचालयबनवाए।विद्यालयकेप्रोजेक्टरसेलघुफिल्मदिखाकरऔरबच्चोंकेनुक्कड़नाटकोंसेगाववालोंकोसफाईकेलिएभीप्रेरितकरनेकीमुहिमस्कूलनेशुरूकीहै।