बच्चों की याचिका पर हाईकोर्ट ने दिखाई सख्ती, सरकार को लगाई फटकार

जेएनएन,चंडीगढ़।पंजाब एवंहरियाणाहाईकोर्टनेस्कूलीबच्चोंकीएकयाचिकापरसुनवाईकरतेहुएहरियाणासरकारकोनोटिसजारीकरजवाबतलबकियाहै।हाईकोर्टकेजस्टिसआरकेजैननेटिप्पणीकरतेहुएकहाकिएकतरफतोसरकारघरघरशौचालयकीबातकरतीहै,लेकिनबच्चोंकोस्कूलमेंपानीवशौचालयकीसुविधाक्योंनहींदेपारही।कोर्टनेहरियाणासरकारकोफटकारलगातेहुएसरकारीस्कूलोंकीस्थितिपरचिंताप्रकटकी।

कैथलजिलेकेगांवबालूकेस्कूलकक्षाछठीसेदसवींतककेसातछात्रोंअमरजीत,अभिषेक,सौरभ,अजय,मंदीप,सावनऔरविकासनेवकीलप्रदीपरापडियाकेमाध्यमसेहाईकोर्टमेंयाचिकादायरकरस्कूलकीदयनीयस्थितिकेबारेमेंबताया।याचियोंकेवकीलनेकोर्टकोबतायाकिसंविधानकेअनुच्छेद21(ए)केअंतर्गतबच्चोंकोनिशुल्कशिक्षावअनिवार्यशिक्षाकामौलिकअधिकारदियागयाहै।मगरस्कूलकीकंडमइमारतऔरबिनाअध्यापकोंकेमौलिकअधिकारकिसीकामकानहींहै।

यहभीपढ़ें:पूछताछमेंसहयोगनकरनेपरहनीप्रीतकोझटका,फिरतीनदिनकेरिमांडपर

याचियोंनेहाईकोर्टकोबतायाकिकईसालसेस्कूलकीइमारतकंडमघोषितहै,लेकिनइसओरकोईध्याननहींदियाजारहा।वहींआधेसेज्यादासत्रबीतनेकेबावजूदस्कूलमेंविज्ञानवमैथकेअध्यापकउपलब्धनहोनेसेबच्चोंकेमौलिकअधिकारकाहननहोरहाहै।स्कूलके45सेअधिकबच्चोंनेमौलिकशिक्षानिदेशकऔरजिलाशिक्षाअधिकारीकोपत्रलिखकरबतायाथाकिछतसेसीमेंटकेटुकड़ेगिरतेरहतेहैं।साथहीस्कूलमेंपीनेकेपानीऔरशौचालयकीभीसमूचितव्यवस्थानहींहै,लेकिनअधिकारियोंनेकोईसुनवाईनहींकी।

बच्चोंकीयाचिकापरकोर्टनेहरियाणासरकारकोआदेशदियाकिवोहलफनामादायरकरयहबताएकिहरियाणाकेसरकारीस्कूलोंमेंअध्यापकोंकेकितनेपदखालीहैंऔरकितनेस्कूलोंमेंलड़केवलड़कियोंकेलिएपीनेकेपानीवशौचालयकीसमूचितव्यवस्थाहै?कोर्टने कैथलकेजिलाशिक्षाअधिकारीवबालूस्कूलकेप्रिंसिपलकोभीनोटिसजारीकरजवाबतलबकियाहै।

यहभीपढ़ें:हनीप्रीतनेजेलमेंहीरखाकरवाचौथकाव्रत,बोली-दोनोंजहानकेसुहागहैंपापा