बालू उठाव पर ढील, भवन निर्माण से जुड़े कर्मियों को राहत

संवादसहयोगी,रेलपार:बालूसेसरकारीप्रतिबंधमेंढीलदेनेकेबादभवननिर्माणकार्यशुरुहोगयाहै।जिससेलोगोंकोथोड़ीराहतमिलीहै,लेकिनअभीसमुचितमात्रामेंबालूनहींमिलनेसेबालूकीकीमतबहुतअधिकहै।लेकिनजिनकानिर्माणकार्यअधूरापड़ाथा,वहअधिककीमतमेंबालूलेकरकामकरारहेहै।पहलेजोबालू1200से1500प्रतिट्रैक्टरमिलतीथी,वहबालूअभी4500रुपयेप्रतिट्रैक्टरमिलरहाहै।प्रतिबंधलगनेकेदौरानयहीबालूआठसेनौहजाररुपयेप्रतिट्रैक्टरमिलताथा।

बतायाजाताहैकिनदीसेबालूउठावपरसरकारीरोककेकारणबालूकीआपूर्तिनहींहोपारहीथी।जिसकेकारणभवननिर्माणकार्यकईमाहसेबंदथा।इसेलेकरविभिन्नचैंबर,व्यवसायीसंगठनोंनेआवाजउठाईथी।परंतुअबबालूसेरोकहटनेसेभवननिर्माणकार्यशुरुहोगयाहै।बालूनहींमिलनेकेकारणभवननिर्माणमेंजुटेहजारोंश्रमिकबेरोजगारहोगएथे।साथहीभवननिर्माणकार्यसेजुड़ेग्रिलदूकानदार,पत्थरखदान,क्रेसरमेंकार्यकरनेवालेश्रमिकतथामालिक,सीमेंटव्यवसायी,हार्डवेयरदुकानदार,व्यवसायी,पाइपलाइनकाकार्यकरनेवालेमिस्त्री,श्रमिक,मजदूर,बिजलीव्यवसायसेजुड़ेश्रमिक,दुकानदारकेरोजगारपरभीअसरपड़ाथा।भवननिर्माणकार्यबंदहोनेसेमजदूरकर्जतथामहाजनसेउधारलेकरघरबारचलारहेथे।लगभगपांचमाहबादआसनसोलजिलाप्रशासननेनदीसेबालूउठावसेपाबंदीहटाई।आसनसोलधधकारोडकेसीमेंटव्यवसायीदेवाशीषसिंहकाकहनाहैकिबालूमहंगीमिलनेसेअभीभीभवननिर्माणमेंतेजीनहींआईहै।जिससेसीमेंटकीबिक्रीभीकमहोरहीहै,थोड़ीराहतअवश्यमिलीहै।अभीसाढ़ेचारहजाररुपयेप्रतिट्रैक्टरबालूमिलरहीहै।