अब किसानों को टिड्डी कीट के प्रकोप का खौफ

शिवहर।टिड्डियोंकेसंभावितप्रकोपसेसुरक्षाकीतैयारीजिलाप्रशासननेप्रारंभकरदीहै।इसकेलिएएकसर्वेक्षणदलबनायागयाहै।जिसमेंसहायकनिदेशकपौधासंरक्षण,उद्याननिदेशकएवंसहायकनिदेशकरसायनसहितअन्यकोशामिलकियागयाहै।

डीएमनेबतायाकिराजस्थान,गुजरात,हरियाणा,उत्तरप्रदेश,छत्तीसगढ़प्रांतोंमेंटिड्डीकीटकेप्रकोपसेफसलएवंपेड़पौधोंकोकाफीनुकसानपहुंचाहै।भारतसरकारद्वाराइससेबचावकेलिएसंबंधितविभागकीटीमगठितकरसुरक्षात्मकरसायनोंकाछिड़कावकियाजारहा।संभावनाजताईजारहीकिइसइलाकेमेंभीप्रकोपकासामनाकरनापड़े।इसकीरोकथामएवंजागरूकताकेलिएकिसानोंकेबीचजरुरीउपायसेसंबंधितपत्रकबांटेगएहैं।साथहीबीटीएस,एटीएम,कृषिसमन्वयककृषिसलाहकारोंकेमाध्यमसेजागरूकताफैलाईजारही।

रसायनछिड़कावकेलिएअग्निशमनविभागसेसमन्वयस्थापितकियागयाहै।एकबड़ीगाड़ीसहितचारमिस्टटेक्नोलॉजीगाड़ीजिलामेंउपलब्धहै।

कीटनाशकदवाविक्रेताओंकीबैठकबुलाईजाचुकीहैवहींउनलोगोंकोअनुसंशितरसायनोंकीउपलब्धतासुनिश्चितकरनेकानिर्देशदियागयाहै।टिड्डीकेप्रकोपसेबचावकेउपायडीएमअवनीशकुमारसिंहनेबतायाकिविशेषज्ञोंकेमुताबिकटिड्डीसेसुरक्षाकेलिएलैंबडासायहेलोथ्रीन5ईसीकी1.0मिलीलीटरमात्रा,क्लोरपायरीफॉस20ईसीकी2से3मिलीलीटर,फिपरोनिल5ईसी1.0मिलीलीटर,डेल्टामेथ्रीन2.8ईसीकी1.0या1.5मिलीलीटरमात्राउपर्युक्तरसायनोंमेंसेकिसीएककीउक्तमात्राप्रतिलीटरपानीमेंघोलबनाकरछिड़कावकरें।छिड़कावकेलिएसूर्यास्तसेसूर्योदयकेबीचकासमयउपयुक्तहै।

यहभीबतायागयाकिसंभावितटिड्डीप्रकोपकोदेखतेहुएएहतियातननियंत्रणकक्षकीस्थापनानिदेशकपौधासंरक्षणकेनेतृत्वमेंकियागयाहैजिसमेंसंबंधितकर्मीकलामुद्दीनकीप्रतिनियुक्तिकीगईहै।

किसानोंसहिततमामजिलावासियोंकाआह्वानकियागयाहैकिसचेतरहेंजागरूकरहेंजिलाप्रशासनभीअपनेस्तरसेतैयारीपूरीकररहा।