40 करोड़ रुपये के आवंटन के बाद भी स्वच्छ भारत अभियान के तहत दिल्ली में एक भी शौचालय नहीं बना: CAG

प्रतीकात्मकतस्वीर

नियंत्रकएवंमहालेखापरीक्षकयानीसीएजीकीएकरिपोर्टमेंमंगलवारकोकहागयाहैकिसाढ़ेतीनसालपहलेस्वच्छभारतमिशनकीशुरूआतहोनेकेबादसेराष्ट्रीयराजधानीमेंएकभीशौचालयकानिर्माणनहींकियागयाहैऔरइसउद्देश्यकेलिएनिर्धारित40.31करोड़रुपयेकाकोषबेकारपड़ाहै.दिल्लीविधानसभामेंपेशनियंत्रकएवंमहालेखापरीक्षक(सीएजी)कीरिपोर्टकेमुताबिक,आपनीतदिल्लीसरकारनेकार्यान्वयनएजेंसियोंकोउनकीजरूरतकेमुताबिकमिशनकाकोषआवंटितनहींकिया.

इसमेंकहागयाहैकिदिल्लीकीतीनोंनगरनिगम,दिल्लीशहरआश्रयसुधारबोर्ड(डीयूएसआईबी)समेतकार्यान्वयनएजेंसियोंकोराज्यकाहिस्सा10.08करोड़रुपयेसहित40.31करोड़रुपयेप्राप्तहुएलेकिनमार्च2017तकइसपैसेकाइस्तेमालनहींकियागया.

सीएजीकीरिपोर्टकेमुताबिक,एनडीएमसी,एसडीएमसीऔरडीसीबीघरेलूशौचालयोंकीजरूरतकाआकलननहींकरपाईलेकिनघरेलूशौचालयोंकेनिर्माणकेलिएउन्हें16.92करोड़रुपयेजारीकिएगए.

इसनेकहाकिशहरमेंझुग्गीझोपड़ीऔरजेजेक्लस्टरकोखुलेमेंशौचमुक्तबनानेकेलिएजिम्मेदारएजेंसीडीयूएसआईबीकोदिल्लीसरकारसेराज्यसरकारकाहिस्सानहींमिला.

रिपोर्टकेमुताबिक,डीयूएसआईबीको(जनवरी2016तक)6.86करोड़रुपयेमिलेजिसमेंराज्यका1.71करोड़रुपये(कुललागतका25फीसदी)काहिस्साभीशामिलथा,जबकिउसे41.49करोड़रुपयेकीजरूरतथी.