23 दिन से धरने पर बैठी हैं दिल्ली की आंगनवाड़ी महिलाएं, जानिए क्या है इनकी मांग?

23दिनसेदिल्लीकीआंगनवाड़ीमहिलाएंअपनीमांगोंकोलेकर,मुख्यमंत्रीआवासपरधरनेपरहैं.रोजानादिल्लीकेअलग-अलगगांवकस्बोंसेयहमहिलाएंपैदलऔरबसोंमेंसवारहोकरदिल्लीकेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालकेघरकेबाहर,हजारोंकीसंख्यामेंप्रदर्शनमेंशामिलहोतीहैं.यहइसउम्मीदकेसाथयहांआतीहैंकिसरकारइनकीमांगसुनले,लेकिनकईदिनहोनेकोआएअभीतककोईबातचीतनहींहोपाईहै.लिहाजा,इनमहिलाओंकाशक्तिप्रदर्शनऔरचेतावनीरैलीजारीहै.

येहालसिर्फदिल्लीकानहींहै,बल्किदिल्लीसेसटेहरियाणामेंभीआंगनवाड़ीमहिलाएंपिछले80दिनोंसेअपनीसैलरीबढ़ाएजानेकीमांगकोलेकरप्रदर्शनकररहीहैं.वहींदूसरीओरमहाराष्ट्रमेंजनआंगनबाड़ीमहिलाएंभीप्रदर्शनकरनेकीबातकररहीहैं.

ApostsharedbyAweshTiwari(@tiwariawesh)

कितनेमानदेयमिलताहै

वर्तमानमेंदिल्लीकेआंगनवाड़ीकेंद्रोंमेंलगभग22हजारमहिलाकार्यकर्ताकामकरतीहैं.जिसमेंआंगनवाड़ीकार्यकर्ताओंको9,678रुपयेमहीनासैलरीमिलतीहै.साथही,हेल्परोंको4,839रुपयेमहीनामिलताहै.यानीप्रतिदिनअनंगवाड़ीमहिला320रुपएप्रतिदिनऔरहेल्परोंकोप्रतिदिन160रुपएमिलतेहै.2017केबादसेइनमहिलाओंकोयेसैलरीमिलरहीहै.

किसविभागकोकितनामेहनताना

कोरोनाकालमेआंगनवाड़ीमहिलाओंनेअपनीऔरअपनेपरिवारकीजानजोखिममेंडालकर,दवाइयांऔरराशनबांटाताकिकोईभूखानासोसके.लेकिनआंगनवाड़ीमहिलाओंकोप्रतिदिनजोमेहनतानामिलताहै,वहदिल्लीसरकारकेदूसरेविभागोंमेंकामकरनेवालेकर्मचारियोंसेकाफीकमहै.दिल्लीसरकार,दिल्लीकेसिविलडिफेंसवैक्सीनेशनड्राइवमेंकामकरनेवालेकर्मचारी786रुपएप्रतिदिनदेतीहै.वहींप्रदूषणबढ़नेपर,दिल्लीकेसिग्नलपररेडलाइटऑनइंजनऑफवालेमुहिमचलानेवालेवॉलिंटियरको786रुपएप्रतिदिनदेतीहै,जोकिआंगनवाड़ीमहिलाओंकेसैलरीसेदोगनेसेभीज्यादाहै.

दिल्लीस्टेटआंगनवाड़ीवर्कर्सएंडहेल्पर्सयूनियनकीअध्यक्षशिवानीकाकहनाहैकि,'सवालयेहैकिजबयेमहिलाएं,सिविलडिफेंसऔरहोमगार्डमार्शलोंजितनाकामकरतीहैं,तोसरकारसैलरीइतनीकमक्योंदेतीहै?'

आजसेनहींहैयेमांग

दिल्लीस्टेटआंगनवाड़ीमहिलाएवंवर्कर्सयूनियनकीमेंबरवैशालीकीमानेंतोदिल्लीकीआंगनवाड़ीमहिलाओंकीसैलरीबढ़ाएजानेकीमांगसाल2017सेभीपहलेकीहै.2015सेलगातारआंगनवाड़ीमहिलाएंदिल्लीसरकारसेअपनीसैलरीबढ़ानेकीमांगकरतीआईहैं,लेकिनसाल2017मेंजबसरकारनेइनकीसैलरीनहींबढ़ाई,तोइनआंगनवाड़ीमहिलाओंनेमुख्यमंत्रीअरविंदकेजरीवालकेघरकेबाहर,59दिनकाआंदोलन कियाथा.उसदौरानइनआंगनवाड़ीमहिलाओंकीसैलरीकोलगभगदोगुनाकरदियागयाथा,जिसमेंआंगनवाड़ीकार्यकर्ताकोजो4500रुपएमेहनतानामिलताथा.उसेबढ़ाकर9678रुपयेकियागया,वहींहेल्परको2500रुपएमहीनाजोसैलरीमिलतीथी,उसेबढ़ाकर4839करदियागया.वहींप्रदर्शनकारियोंकीमांगहैकि,आंगनवाड़ीकार्यकताओंको25हजाररुपयेऔरहेल्पर्सको20हजाररुपयेमासिकमानदेयदियाजाए.

क्याकहनाहैदिल्लीसरकारका

सोमवारकोआंगनबाड़ीमहिलाओंकाएकग्रुपनेदिल्लीसरकारकेमहिलाबालविकासमंत्रीराजेंद्रपालगौतमसेमुलाकातकी.राजेन्द्रपालगौतमनेकहा,'उनकीतरफसेजोमांगरखीगईहै,वहवास्तविकतौरपरकाफीसहीहै.लेकिनअभीजोमहिलाएंप्रदर्शनपरबैठीहैंउनकेयूनियनकेकईलोगअभीबातचीतकरनेकेलिएनहींपहुंचेहैं.साथही,दिल्लीकेमुख्यमंत्रीदिल्लीसेबाहरहैं.जबवहआएंगे,तोसभीग्रुपोंकेसाथबैठककरइसमुद्देकोहलकियाजाएगा.'